Tap to Read ➤

IPL 2022 के पहले डबल हेडर में दिखा दोहरा रोमांच, लगी रिकॉर्ड्स की झड़ी

आईपीएल के 15वें सीजन का आगाज हो गया है, जिसका पहला डबल हेडर दिल्ली बनाम मुंबई और पंजाब बनाम आरसीबी के बीच खेला गया। फैन्स को दोनों ही मैच में रोमांच देखने को मिला तो साथ ही रिकॉर्ड की झड़ी भी लगी।
डबल हेडर का पहला मैच दिल्ली और मुंबई के बीच खेला गया जिसमें मुंबई की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 177 रनों का लक्ष्य दिया, जिसे दिल्ली की टीम ने 10 गेंद पहले हासिल कर 4 विकेट से जीत हासिल की।
मुंबई की हार के साथ ही रोहित शर्मा 3644 दिनों से मुंबई की टीम को पहले मैच में जीत नहीं दिला पाने के अनचाहे रिकॉर्ड को नहीं तोड़ सके और यह अभी भी जारी है।
मुंबई इंडियंस के लिये ईशान किशन ने 81 रनों की नाबाद पारी खेली और बतौर ओपनर अर्धशतक की हैट्रिक पूरी की। वह सचिन तेंदुलकर और क्विंटन डिकॉक के बाद ऐसा करने वाले मुंबई के तीसरे बल्लेबाज बने।
ईशान किशन ने आईपीएल की नीलामी में सबसे महंगा बिकने के बाद ओपनिंग मैच में अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया और युवराज के बाद ऐसा करने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गये।
दिल्ली कैपिटल्स के लिये कुलदीप यादव ने 3 विकेट हासिल किये जो कि आईपीएल के उनके करियर में 4 साल बाद आया है। वह 2018 के बाद से एक बार भी एक से ज्यादा विकेट हासिल नहीं कर सके थे।
मुंबई इंडियंस के लिये डैनियल सैम्स ने 4 ओवर के स्पेल में 57 रन लुटाये और आईपीएल के इतिहास में टीम के लिये दूसरे सबसे महंगे गेंदबाज बन गये। मुंबई के लिये यह अनचाहा रिकॉर्ड अभी भी लसिथ मलिंगा के नाम है।
रोमांचक रविवार का दूसरा मैच पंजाब किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच खेला गया, जहां पर फैन्स को मैच में 27 छक्के और 19 चौके देखने को मिले। पंजाब की टीम ने 8 साल बाद 200 से ज्यादा के लक्ष्य को सफलता पूर्वक चेज किया।
RCB की टीम ने 205 रनों का स्कोर खड़ा किया लेकिन वो उसे बचा पाने में नाकाम रही। इसके साथ ही आरसीबी की टीम सबसे ज्यादा बार (4 बार) 200 से ज्यादा के लक्ष्य को बचाने में नाकाम होने वाली टीम बनी।
इस मैच से पहले आरसीबी की टीम साल 2012 और 2018 में सीएसके के खिलाफ 206 रनों के लक्ष्य को बचा पाने में नाकाम रही थी तो वहीं पर 2018 में केकेआर के खिलाफ भी उसे हार का सामना करना पड़ा था।
पंजाब किंग्स ने आईपीएल के इतिहास में चौथी बार 200 से ज्यादा रनों के लक्ष्य को हासिल कर लिया और सबसे ज्यादा रनों के लक्ष्य को सफल तरीके से हासिल करने में खुद की लिस्ट पर टॉप पर पहुंच गये हैं।
पंजाब ने 2014 में हैदराबाद और सीएसके के खिलाफ 206 रनों के स्कोर को चेज किया था, जिसके 8 साल बाद उसने यह कारनामा किया है। वहीं 2010 में पहली बार केकेआर के खिलाफ 201 रनों को चेज किया था।
पंजाब किंग्स की टीम ने बिना किसी बल्लेबाज की 50+ पारी के सबसे ज्यादा रनों को चेज करने के रिकॉर्ड में पहला स्थान हासिल कर लिया है जो कि IPL के इतिहास में महज तीसरी बार हुआ है।
पहले यह रिकॉर्ड कोलकाता नाइट राइडर्स के नाम था जिसने आरसीबी के ही खिलाफ 2019 में 206 रन बनाये थे। सबसे पहले यह कारनामा मुंबई इंडियंस की टीम ने सीएसके के खिलाफ 2008 में 202 का स्कोर बनाकर किया था।
आरसीबी के लिये 88 रनों की पारी खेलने वाले डुप्लेसिस ने इस मैच में 3000 रन पूरे किये और सबसे तेज इस आंकड़े को पूरा करने वाले क्रिस गेल (75), केएल राहुल (80), डेविड वॉर्नर (94), डुप्लेसिस (94) और सुरेश रैना (103) की लिस्ट में शुमार हो गये।
डुप्लेसिस ने आईपीएल में कप्तानी के डेब्यू मैच में सबसे ज्यादा रनों की पारी खेलने वाले विदेशी कप्तान का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया और कायरन पोलार्ड को पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने 2019 में 83 रन बनाये थे।
ओवरऑल कप्तान की लिस्ट की बात करें तो राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू समैसन (119), मयंक अग्रवाल (99), श्रेयस अय्यर (93) और फाफ डुप्लेसिस का नाम शामिल है, जोकि चौथे पायदान पर काबिज हैं।
IPL 2022, CSK vs KKR: धोनी-ब्रावो ने रचा इतिहास, जानें क्या बने रिकॉर्ड
यहां क्लिक करें
Credits
BCCI/IPL, PTI