Tap to Read ➤

ब्यूटी विद ब्रेन हैं 23 की उम्र में IAS बनीं स्मिता सभरवाल

आईएएस स्मिता सभरवाल को आंध्रप्रदेश-तेलंगाना कई सुधारों के लिए जाना जाता हैं।
अपने काम के दम पर आईएएस स्मिता सभरवाल ने 'जनता के अधिकारी' के रूप में पहचान बनाई है।
स्मिता सभरवाल का जन्म 19 जून 1977 को दार्जिलिंग पश्चिम बंगला में हुआ था।
स्मिता सभरवाल का जन्म 19 जून 1977 को दार्जिलिंग पश्चिम बंगला में हुआ था।
स्मिता सभरवाल व अकुन सभरवाल के दो बच्चे नानक और भुविश हैं।
स्मिता ने स्कूल की पढाई हैदराबाद से पूरी की।
सेंट फ्रांसिस डिग्री कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की।
स्मिता ने मात्र 23 साल के उम्र में संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास की।
UPSC की सिविल सेवा परीक्षा 2000 में स्मिता ने देशभर में चौथा स्थान पाया था।
इनकी पहली नियुक्ति चित्तूर जिला आंध्रप्रदेश बतौर सब -कलेक्टर हुई थी।
साल 2011 में स्मिता सभरवाल करीमनगर जिले का डीएम बनीं।
करीमनगर डीएम के रूप में स्मिता ने कई शानदार प्रोजेक्ट की शुरुआत की।
यहां अम्माललाना प्रोजेक्ट शुरू करने का श्रेय स्मिता को ही जाता है।
स्मिता को प्राइम मिनिस्टर एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया जा चुका है।
स्मिता ने करीमनगर को बेस्ट टाउन का अवार्ड भी दिलवाया।
तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यलय में तैनात होने वाली पहली महिला आईएएस अधिकारी स्मिता हैं।
स्मिता सभरवाल 12वीं में ISC बोर्ड की टॉपर रही थीं।
स्मिता को पहले प्रयास में असफलता हाथ लगी और वो प्रीलिम्स एग्जाम भी क्लियर नहीं कर पाई थी।
स्मिता सभरवाल चितूर में सब-कलेक्टर के अलावा कडप्पा रूरल डेवलपमेंट एजेंसी की प्रोजेक्ट डायरेक्टर भी रहीं।
स्मिता सभरवाल चितूर में सब-कलेक्टर के अलावा कडप्पा रूरल डेवलपमेंट एजेंसी की प्रोजेक्ट डायरेक्टर भी रहीं।
Credits
@SmitaSabharwal