Tap to Read ➤

समुद्री जीवों पर प्लास्टिक का कहर

घट रही पानी में ऑक्सीजन की मात्रा
दुनिया भर में हर साल 300 मिलियन टन प्लास्टिक का उत्पादन होता है
इसमें से कम से कम 18 मिलियन टन प्लास्टिक समुद्र में फेंक दी जाती है
समुद्र में पाये जाने वाले मानवजनित कूड़े में 80% प्लास्टिक होती है
प्लास्टिक की वजह से समुद्र का तापमान तेज़ी से बढ़ रहा है
पिछले 50 वर्षों में पृथ्‍वी पर उत्सर्जित ग्रीन हाउस गैसों का 93% समुद्रों ने अवशोषित कर लिया
मानवजनित कार्बन डाइऑक्साइड का 28% हिस्सा समुद्र अवशोषित कर लेते हैं।   औद्योगिक क्रांति के बाद से अब तक पृथ्‍वी के तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है
गर्म होते समुद्र का पानी प्रदूषित होने के कारण इसमें से ऑक्सीजन की मात्रा घट रही है
गर्म होते समुद्र का पानी प्रदूषित होने के कारण इसमें से ऑक्सीजन की मात्रा घट रही है और पानी अम्लीय हो रहा है
अगर समुद्र का पानी इसी तरह अम्लीय होता गया तो समुद्री जीव धीरे-धीरे विलुप्त हो जाएंगे....
पर्यावरण से जुड़ी और भी हैं रोचक खबरें पढ़ें वनइंडिया हिन्दी पर
Oneindia Hindi