Tap to Read ➤

UPSC परीक्षा पास करने के बाद ऐसे तय होता है कि कौन बनेगा IAS-IPS?

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करने वाले अभ्‍यर्थी अफसर बनते हैं।
इन अभ्‍यर्थियों को IAS, IPS, IFS समेत 24 तरह की सर्विस के अफसर के रूप में नियुक्ति मिलती है।
ऐसा नहीं है कि जिसने सिविस सर्विसेज की परीक्षा पास कर ली है, वो आईएएस या आईपीएस ही बनेगा।
UPSC CSE पास करने वाले परीक्षार्थियों को एक तय प्रकिया के जरिए पोस्ट दी जाती हैं।
अंतिम चयन होने वाले उम्मीदवार फिर IAS, IPS की रेस में हिस्सा लेते हैं।
सर्विसेज में 2 कैटेगरी होती हैं, जिसमें ऑल इंडिया सर्विसेज और सेंट्रल सर्विसेज शामिल हैं।
ऑल इंडिया सर्विसेज में IAS, IPS व सेंट्रल सर्विस में IFS, IIS, IRPS, ICAC आदि पद आते हैं।
इनके अलावा आर्म्ड फोर्स हेडक्वार्टर सिविल सर्विस भी इसमें आती है।
अभ्‍यर्थी को कौनसा अफसर बनाया जाएगा यह कई चीजों पर निर्भर करता है।
अभ्‍यर्थियों से पहले ही उनकी प्राथमिकता पूछ ली जाती है।
फिर उसी के आधार पर भी पोस्ट का बंटवारा होता है।
वैसे सामान्य तौर पर रैंकिंग के आधार पर पदों का बंटवारा होता है।
टॉप रैंक पर रहने वाले उम्मीदवारों को IAS, IPS व IFS जैसी सर्विस मिलती है
ऐसा नहीं है कि सभी टॉप कैंडिडेट को आईएएस बनाया जाएगा।
अगर किसी की रैंक अच्छी है और प्राथमिकता IPS है तो वह IPS बनेगा।
इसके अलावा खाली पदों के आधार पर भी सर्विस बांटी
जाती है।
कई बार कम रैंक वाले कैंडिडेट्स को भी IFS जैसी सर्विस मिल जाती हैं।

 vishwanath saini

Credits
navjot simi instagram