Tap to Read ➤

सर्दियों में जरूर खाएं ये चीजें... गजब का स्वाद, सेहत भी लाजवाब

भारत के कई उत्पादो को मौसम के साथ आसानी से जोड़ दिया जाता है। ऐसे ही उत्पाद में तिल के लड्डू, लाई और तिलकुट और गजक जैसी लजीज चीजों की गिनती होती है। सर्दी के मौसम में स्वाद के साथ सेहत के लिए फायदेमंद इन चीजों का सेवन तंदुरुस्त रखता है।
Jyoti Bhaskar

सर्दियों के सीजन में मिठाई जमकर परोसी जाती है। फल-सब्जी के मायने में सर्दी में मिलने वाले गाजर बहुत पसंद किए जाते हैं। इससे बनने वाला हलवा मिठाई से कम नहीं। तापमान गिरते ही गाजर का हलवा खाने के शौकीन कद्दू कस गाजर, दूध या खोया और चीनी के साथ स्वादिष्ट गाजर का हलवा बनाते हैं जो अधिकांश लोगों की पसंद है।

गाजर का हलवा

गोंद के लड्डू भी सर्दियों में खासे लोकप्रिय होते हैं। खाने योग्य गोंद, देसी घी (स्पष्ट मक्खन), भुना हुआ गेहूं का आटा, कटे हुए मेवे, और किशमिश के साथ-साथ जायफल और इलायची जैसे गर्म मसालों को मिलाकर तैयार होने वाला गोंद का लड्डू शक्ति से भरपूर मिठाई है।

गोंद के लड्डू

गजक को बिहार में तिलकुट भी कहा जाता है। इसमें गुड़, मूंगफली, तिल जैसी चीजें मिलाई जाती हैं। कड़ाके की सर्दी में किसी मैजिक जैसे लगने वाले गजक अनूठी मिठाई है। इस मिठाई का अनूठा स्वाद और आकर्षण देखकर ही मुंह में पानी आने लगते हैं।

गजक

पंजीरी को पिन्नी भी कहा जाता है। इसे मीठे नाश्ते के रूप में भी परोसा जाता है। अक्सर सर्दियों की शुरुआत में थोक में बनाकर इसे पूरे सीजन एंजॉय किया जाता है। इनकी शेल्फ लाइफ लंबी होने के साथ-साथ कड़ाके की ठंड में भी शरीर में गर्मी के लिए इसका सेवन किया जाता है। इससे बहुत अधिक ऊर्जा मिलती है।

पंजीरी या पिन्नी

तिल के लड्डू सर्दियों में दादी-नानी की रसोई की सबसे कॉमन रेसिपी कही जा सकती है। तिल और गुड़ मिलाकर तैयार होने वाले इस लड्डू की शेल्फ लाइफ भी अच्छी होती है ऐसे में बड़े पैमाने पर बनाकर इन्हें एयर-टाइट कंटेनर में रखा जाता है। शरीर के तापमान और न्यूट्रीशन के लिए पूरे सीजन एक-दो लड्डू रोज खाने की सलाह दी जाती है।

तिल के लड्डू

विंटर से जुड़ी और कहानियां...