Tap to Read ➤

Dudhwa National Park: पर्यटकों के लिए खुला दुधवा राष्ट्रीय उद्यान

विश्व प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान में पर्यटन सीजन 15 नवंबर से शुरू होता है और हर साल 15 जून को समाप्त होता है। इस अवधि के दौरान पर्यटक और वन्यजीव प्रेमी डीएनपी, किशनपुर अभयारण्य और कतर्निया घाट वन्यजीव अभयारण्य का दौरा कर सकते हैं।
Vidya Shanker Rai
दुधवा की सैर करने वाले पयर्टक यहां आकर वन्यजीवों को देखने का लुत्फ उठा सकते हैं। समृद्ध जंगली, जलीय और एवियन को देखने की अनुमति होगी
हिंदी या अंग्रेजी बोलने वाले गाइड के लिए गाइड शुल्क को संशोधित कर 400 रुपये और द्विभाषी के लिए 500 रुपये कर दिया गया है।
दुधवा में हिरण के अलावा कई तरह की वन्य जीव प्रजातियों को देखने का मौका मिलेगा। इसलिए देश ही नहीं दुनियाभर के पयर्टकों को दुधवा के खुलने का बेसब्री से इंतजार रहता है
पर्यटकों को अपने स्वयं के वाहनों पर जंगल में जाने की अनुमति नहीं होगी, लेकिन उन्हें प्रति वाहन ₹ 3,500 की दर से छह सीट वाले जेनॉन या जिप्सी (ड्राइवर और गाइड को छोड़कर) किराए पर लेने होंगे।
दुधवा सफारी में प्रत्येक तीन घंटे की दो पारियों में घूमा जा सकेगा। पहली पाली सुबह 07:30 बजे से 10:30 बजे तक और दूसरी पाली दोपहर 02:30 बजे से शाम 05:30 बजे तक दृश्यता की स्थिति के आधार पर होगी।
शहरों की भागदौड़ से दूर तराई तलहटी में प्राकृतिक शांति के साथ कुछ समय बिताने के लिए यह उपयुक्त स्थान है। गहरे हरे जंगलों के बीच बहने वाली नदियां आपको जंगल का पूर्ण अनुभव देती है।
दुधवा अभयारण्य का मनमोहक स्वरूप पयर्टकों को हमेशा अपनी तरफ आकर्षित करता है।
दुधवा में हर साल लाखों पयर्टक देश ही नहीं विदेशों से भी आते हैं और इस अभयारण्य में सैर करते हैं।
दुधवा में कई तरह के गैंडा भी देखने को मिल जाएंगे। यहां इनकी कई प्रजातियां हैं।