Tap to Read ➤

8 साल में भारत में 9 मुख्य चुनाव आयुक्त, 4 के कार्यकाल एक साल से कम !

साल 2014 के बाद केंद्र सरकार में बदलाव नहीं हुआ है। नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद गत 8 साल में 9 केंद्रीय निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्तियां हुई हैं। चार CEC एक साल से कम समय में रिटायर हो गए। जानिए किस राज्य से आते हैं सभी 9 मुख्य निर्वाचन आयुक्त (CEC)
Jyoti Bhaskar

केंद्रीय निर्वाचन आयोग संवैधानिक संस्था है, इसकी जिम्मेदारी भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराना है। इसके मुखिया केंद्रीय निर्वाचन आयुक्त (CEC) होते हैं।

मई, 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से अब तक साढ़े 8 साल के दौरान 9 केंद्रीय निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्ति हो चुकी है। जानिए, संवैधानिक संस्था के केंद्रीय निर्वाचन आयुक्तों (CEC) के कार्यकाल के बारे में।

जब नरेंद्र मोदी पीएम बने तो उसके लिए लोक सभा चुनाव 2014 में कराए गए थे। इस समय वीएस संपथ CEC की पोस्ट पर थे। संपथ ने जून, 2012 से जनवरी, 2015 तक ये पोस्ट संभाली।

Tamil Nadu

जनवरी, 2015 में वीएस संपथ की रिटायरमेंट के बाद एचएस ब्रह्मा CEC बने। हालांकि, बेहद संक्षिप्त कार्यकाल में ब्रह्मा ने केवल तीन महीने (जनवरी, 2015 से अप्रैल 2015 तक) CEC रहे।

Meghalaya

नरेंद्र मोदी के PM बनने के बाद तीसरे CEC नसीम जैदी बने। उन्होंने अप्रैल, 2015 से जुलाई, 2017 तक CEC के रूप में सेवाएं दीं।

Uttar Pradesh

जुलाई 2017 में अचल कुमार ज्योति भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त बने। एके ज्योति ने पूरे 200 दिनों  (जनवरी, 2018) तक CEC का कार्यकाल संभाला।

New Delhi

जनवरी, 2018 से दिसंबर 2018 तक ओम प्रकाश रावत भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त रहे। रावत तीसरे ऐसे CEC रहे जिन्होंने एक साल से कम अवधि का कार्यकाल संभाला।

Madhya Pradesh

दिसंबर 2018 में भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त बने सुनील अरोड़ा दो साल चार महीने से कुछ अधिक समय (अप्रैल, 2021) तक CEC रहे । अरोड़ा के कार्यकाल में ही नरेंद्र मोदी दूसरी बार PM बने।

Punjab

अप्रैल, 2021 में CEC बने सुशील चंद्रा मई, 2022 तक मुख्य निर्वाचन आयुक्त रहे। करीब 13 महीने के कार्यकाल के बाद चंद्रा ने राजीव कुमार को CEC का पदभार सौंपा।

Uttar Pradesh

मई, 2022 में मुख्य निर्वाचन आयुक्त बने राजीव कुमार चौथे ऐसे CEC रहे जो एक साल से कम समय में रिटायर हो गए व करीब 6 महीनों (नवंबर, 2022) तक CEC रहे।

Bihar-Jharkhand

नवंबर, 2022 में मुख्य निर्वाचन आयुक्त बने अरुण गोयल मोदी सरकार के कार्यकाल में 9वें CEC हैं। पंजाब कैडर के पूर्व IAS गोयल CEC का पदभार फरवरी, 2025 तक संभालेंगे।

Punjab

भारतीय संविधान के तहत मुख्य निर्वाचन आयुक्त का कार्यकाल अधिकतम छह साल का हो सकता है। CEC की उम्र 65 साल होने पर उसकी रिटायरमेंट हो जाती है।