Tap to Read ➤

चारधाम में रिकॉर्ड श्रद्धालुओं ने किए दर्शन, मंदिर को जमकर मिला दान

कोविडकाल के बाद इस बार हुई चारधाम यात्रा कई मायने में खास बन गई। 3 मई से शुरू हुई चारधाम यात्रा 19 नवंबर को बद्रीविशाल के कपाट बंद होने के साथ ही सम्पन्न हो गई।
Pavan nautiyal
1763549 तीर्थ यात्री बदरीनाथ और 1563275 तीर्थ यात्री केदारनाथ दर्शनों को पहुंचे
33.26 लाख तीर्थ यात्रियों ने बदरी-केदार धाम में दर्शन किए, जिनसे मंदिर समिति को दोनों धाम में 60 करोड़ की धनराशि दानस्वरूप प्राप्त हुई
बदरीनाथ धाम को 34.5 करोड़ की आय हुई, जबकि वर्ष 2019 में 27 करोड़ की आय हुई थी।
केदारनाथ धाम को इस बार 25.5 करोड़ की आय हुई, जबकि वर्ष 2019 में 17.5 करोड़ की आय हुई थी।
चारों धामों में करीब 46 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए।
26 अक्तूबर को गंगोत्री धाम, 27 अक्तूबर को केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट विधि विधान के साथ बंद किए गए।
19 नवंबर को बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के साथ ही इस सीजन की चारधाम यात्रा का समापन हो गया।
केदारनाथ और यमुनोत्री में घोड़ा खच्चर, हेली और डंडी-कंडी से 211 करोड़ रुपये का कारोबार हुआ।
विंटर में स्नोफॉल का लेना है आनंद, चले आइए उत्तराखंड की इन वादियों में
see more