Tap to Read ➤

Chaitra Navratri 2022: कब है अष्टमी-नवमी और कन्या पूजन का शुभ मुहूर्त?

इस वक्त पूरा भारत आदिशक्ति मां दुर्गा की पूजा-अराधना में लगा हुआ है।
नवरात्रि में अष्टमी-नवमी का खास महत्व होता है।
कुछ भक्तगण तो नवरात्रि में नौ दिनों का उपवास रखते हैं।
तो कुछ लोग चढ़ती-उतरती यानी कि नवरात्रि के पहले दिन और अष्टमी या नवमी का व्रत रखते हैं।
इस बार अष्टमी तिथि 09 अप्रैल को पड़ रही है,इसे महाष्टमी भी कहते हैं।
इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6 बजकर 2 मिनट तक है।
अष्टमी पूजा का का शुभ मुहूर्त 11 बजकर 58 मिनट से 12 बजकर 48 मिनट तक का है. इन शुभ मुहूर्त में कन्या पूजन किया जाता है।
जबकि नवमी तिथि 10 अप्रैल की रात्रि 1बजकर 23 मिनट से 11 अप्रैल सुबह 3 बजकर 15 मिनट तक रहेगी।
नवमी को दिन रवि पुष्य योग, रवि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग है, ऐेसे में इस दिन सुबह से ही कन्या पूजन कर सकते हैं।
कन्याओं को साक्षात् मां दुर्गा का स्वरुप माना जाता है. इस वजह से नवरात्रि के समय में कन्या पूजन करते हैं।
जानें रामनवमी की तिथि, शुभ मुह