Tap to Read ➤

लू से बचाए, रोके हेयर फॉल, वेट लॉस करे यह फूड

सत्तू बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल से निकलकर पूरे देश में मशहूर हो चुका है।
सत्तू का शरबत और इससे बनी लिट्टी के बारे में कौन नहीं जानता? सत्तू पोषक तत्वों से भरा एनर्जी देने वाला फूड है।
चने को भूनने के बाद पीसकर बनाया गया सत्तू सबसे पॉपुलर है। चने में गेहूं या ज्वार मिलाकर भी सत्तू बनाया जाता है।
सत्तू का शरबत नमकीन या मीठा बनाया जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि सत्तू का शरबत गर्मी में लू (sunstroke) से बचाता है।
नमकीन शरबत में सत्तू, प्याज, नींबू का रस, काला नमक, जीरा पाउडर, चाट मसाला, पानी समेत अन्य चीजों को मिलाया जाता है।
मीठा शरबत बनाने के लिए सत्तू के साथ चीनी या और कोई मीठी चीज मिला सकते हैं। दूध में भी सत्तू को घोला जा सकता है।
सत्तू से लिट्टी, पराठे, उपमा समेत अन्य कई चीजें बनाई जाती है। सत्तू में प्रोटीन बहुत होता है, इसे दूध में मिलाकर पी सकते हैं।
सत्तू का सेवन सुबह को करना चाहिए। यह कड़ी धूप में भी बॉडी में एनर्जी और पानी बनाए रखता है। इसमें आयरन, मैग्नेशियम, मैंगनीज जैसे तत्व होते हैं। सोडियम कम होता है।
सत्तू शरीर के अंगों को गर्मी में ठंडा रखता है। इसमें कूलिंग एजेंट होता है। सत्तू आसानी से पचता है और पेट साफ करता है।
सत्तू कब्ज, एसिडिटी, पेट फूलने जैसी समस्या से निजात दिलाता है। यह बड़ी आंत, मलाशय की दीवारों को साफ कर पाचन तंत्र को मजबूत करता है।
सत्तू स्किन को भी चमकदार बनाता है। हेयर फॉल को रोककर बालों की जड़ों को मजबूत करता है।
सत्तू वेट लॉस करने में बहुत काम आता है। इसको खाने से भूख कम लगती है। डायबिटीज का खतरा भी यह कम करता है।
आगे अंतिम बात
जिनको गैस की समस्या है उनको सत्तू का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।
हिमालय का बेशकीमती कीड़ा
लीजिए जान