Tap to Read ➤

ना अपना घर ना ज़मीन, जानें योगी आदित्यनाथ के बारे में 10 रोचक बातें

योगी आदित्यनाथ गोरखपुर सीट से पांच बार सांसद रहे हैं। वह 2017 में पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे और दूसरी बार बनने जा रहे हैं। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर के महंत भी हैं।
21 साल की उम्र में योगी आदित्यनाथ ने अपने परिवार को त्याग दिया था। वह बिना घरवालों को बताए गोरखपुर आ गए थे।
योगी और महंत बनने से पहले योगी आदित्यनाथ का नाम अजय सिंह बिष्ट था।
योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर के महंत और पीठाधीश्वर हैं।
योगी आदित्यनाथ 1998 से यूपी में गोरखपुर सीट से पहली बार सांसद बने थे। योगी 12वीं लोकसभा में सबसे कम उम्र के सांसद थे।
साल 2002 में योगी आदित्यनाथ ने गायों की सुरक्षा के लिए एक संगठन हिंदी युवा वाहिनी की स्थापना की थी। 2005 में योगी ने एक शुद्धिकरण अभियान ''घर वापसी'' चलाया, जहां 5,000 से अधिक लोगों को यूपी के एटा में हिंदू धर्म में परिवर्तित किया गया था।
7 सितंबर 2008 को योगी आदित्यनाथ पर आजमगढ़ में जानलेवा हिंसक हमला हुआ था। जिसमें वह बाल-बाल बचे थे।
योगी आदित्यनाथ को हत्या के प्रयास से लेकर पूजा स्थलों को अपवित्र करने के कई आपराधिक धमकी देने जैसे आरोपों का सामना करना पड़ा है।
योगी आदित्यनाथ दोनों कानों में कुंडल पहनते हैं, नाथ संप्रदाय के योगियों को कान में कुंडल पहनना अनिवार्य होता है।
योगी आदित्यनाथ ने शादी नहीं की है, वो एक योगी हैं। योगी के पास अपना घर या जमीन नहीं है।
योगी आदित्यनाथ जो भगवा रंग का कुर्ता पहनते हैं, उसे कुर्ता नाखूनी सादा कुर्ता नाम से जाना जाता है, क्योंकि इस कुर्ते को सिलने के लिए दर्जी के नाखून बड़े होने अनिवार्य है।