By: Oneindia Hindi Video Team
Published : October 30, 2017, 11:27

Virat Kohli पिता के शव को छोड़ गए मैदान पर, जड़ा शतक फिर किया संस्कार वनइंडिया हिंदी

Subscribe to Oneindia Hindi

दौलत और शौहरत की बुलंदी पर बैठे टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने आज अपने खेल से साबित कर दिया है कि इंसान अपने दम पर दुनिया जीत सकता है, बशर्ते उसके इरादे नेक हों और वो उसकी मेहनत में जूनून हो।पत्रकार राजदीप सरदेसाई की किताब 'डेमॉक्रेसी इलेवन' में कोहली के जीवन का वो अंक प्रकाशित हुआ है, जिसके बारे में शायद काफी लोगों को पता नहीं होगा। विराट की उम्र उस वक़्त महज़ 18 साल थी जब उनकी पिता का देहांत हो गया था, और उनको ये खबर पता चली थी वो दिल्ली टीम की तरफ से खेल रहे थे| एक ओर जहां उनके पिता का शव घर पर रखा हुआ था और दूसरी तरफ वो अपनी टीम को जीत दिलाने के लिए खेल रहे थे, पूरी जानकारी के लिए देखें ये वीडियो |

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

सबसे पहले और ताज़ा खबरों के लिए सब्सक्राइब कीजिये वनइंडिया हिंदी यूट्यूब चैनल