By: Oneindia Hindi Video Team
Published : January 12, 2018, 06:20

मथुरा में शहीदों की याद में 10 किलोमीटर की तिरंगा यात्रा

Subscribe to Oneindia Hindi


मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया सुरक्षा को लेकर कितने वादे करते हों लेकिन हकीकत में वो सिर्फ हवा-हवाई दावे नजर आते हैं, जो हम आप को दिखाने जा रहे हैं उसने जनता की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए हैं। मुरादाबाद के सबसे व्यस्त इलाके की पुलिस चौकी फैजगंज की रियलिटी चेक करने पहुंचे तो चौकी में अंधेरा पसरा था और चौकी के गेट पर भी कुंडी लगी हुई थी। वहीं चौकी से सटे कमरे में से एक सिपाही निकल कर आया।

जब सिपाही अरुण कुमार से जानकारी की गई कि आपके इंचार्ज साहब कहां हैं तो वो भी साहब की तरफदारी में झूठ पर झूठ बोलता चला गया। पहले बताया कि चौकी इंचार्ज साहब क्षेत्र में है और फिर दुबारा झूठ बोलते हुए कहा की इंचार्ज साहब थाने गए हैं। जब सिपाही की ड्यूटी के बारे में पूछा गया तो भी कोई साफ जवाब नहीं दे पाया।

इसी क्रम में गुलाबबाड़ी पुलिस चौकी की रियलिटी चेक में भी पुलिस नदारद थी और चौकी के गेट में कुंडी लगी हुई थी और चौकी इंचार्ज की सीट भी खाली पड़ी थी। शहर के मुख्य चौराहे जामा मस्जिद जहां से उत्तराखंड को जाने वाला मार्ग भी है उस चौराहे पर भी पुलिस दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही थी। इससे साफ जाहिर होता है कि पुलिस कितनी मुस्तैदी से सुरक्षा में तैनात है। इन तस्वीरों ने पुलिस के सुरक्षा तंत्र पर सवालिया निशान लगा दिए हैं।

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

सबसे पहले और ताज़ा खबरों के लिए सब्सक्राइब कीजिये वनइंडिया हिंदी यूट्यूब चैनल