By: Oneindia Hindi Video Team
Published : October 25, 2017, 05:35

2019 में पूरा नहीं हो पाएगा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ये सपना

Subscribe to Oneindia Hindi

चुनाव आयोग के संसाधनों के तौर पर तैयार होने के बावजूद लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने का पीएम नरेंद्र मोदी का सपना 2019 में पूरा होता तो नहीं दिखता लेकिन 2024 से यह व्यवस्था दो चरणों में लागू होने के आसार हैं। चुनाव आयोग के सूत्रों के अनुसार सितंबर 2018 में आयोग के पास आवश्यक संसाधन के रूप में करीब 28 लाख इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और इतनी ही वीवीपीएटी मशीनें आ जाने की संभावना है जिसके बाद लोकसभा एवं सभी विधानसभा चुनाव एक साथ कराना संभव हो सकेगा। इस समय लोकसभा एवं चार विधानसभा चुनाव एक साथ कराने में आयोग को 1.10 करोड़ कर्मचारियों की जरुरत पड़ती है। अगर लोकसभा और सभी विधानसभाओं के चुनाव एकसाथ कराने पड़े तो करीब 1.60 करोड़ कर्मियों की जरूरत पड़ेगी। पूरी खबर जाननें के लिए देखें ये विडियो |

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

सबसे पहले और ताज़ा खबरों के लिए सब्सक्राइब कीजिये वनइंडिया हिंदी यूट्यूब चैनल