By : Oneindia Hindi Video Team
Published : December 25, 2017, 03:55

सड़क पर चलता है प्रदेश का ये स्कूल, रोड पर ही बनता है मिड-डे-मील

देश की राजधानी दिल्ली में जहां सरकारी स्कूल सुविधाओं में मोटी फीस वसूलने वाले प्राइवेट विद्यालयों से भी बेहतर काम कर रहे हैं। वही उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में एक ऐसा स्कूल है जो दस साल से सड़क पर चल रहा है। आपको विश्वास नहीं हो रहा होगा लेकिन यह सोलह आने सच है। मिर्जापुर नगर के मध्य स्थित रामआग मोहल्ले में बैरिस्टर यूसुफ बेसिक प्राइमरी पाठशाला के बच्चे और अध्यापक सड़क पर बैठक कर पढ़ने और पढ़ाने को मजबूर हैं। इस स्कूल में सिर्फ 70 बच्चे पढ़ रहे हैं और स्कूल के नाम पर सिर्फ एक दुकान का कमरा मिला हुआ है। इसी कमरे में स्कूल का समान रखा हुआ है। थोड़ी ही जगह में बच्चे बैठ कर पढ़ते हैं। एक कमरा होने के चलते आधे से अधिक बच्चों को सड़क पर बैठा दिया जाता है। स्कूल के अध्यापक ब्लैक बोर्ड को सड़क पर ही लगा कर बच्चों को पढ़ाते हैं।

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

सबसे पहले और ताज़ा खबरों के लिए सब्सक्राइब कीजिये वनइंडिया हिंदी यूट्यूब चैनल