By: Oneindia Hindi Video Team
Published : January 25, 2018, 02:43

सरकारी डॉक्टरों ने समय पर नहीं दी एंबुलेंस की सुविधा, नवजात की मौत

Subscribe to Oneindia Hindi

मुजफ्फरनगर। यूपी के मुजफ्फरनगर में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला एक मामला सामने आया है। यहां एंबुलेंस के भीतर जन्मे एक नन्हे बच्चे ने इलाज के अभाव में तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया। दरअसल मोरना ब्लॉक के रुड़कली गांव से मंगलवार देर शाम साढ़े नौ बजे मोरना सीएचसी में पहुंची एक गर्भवती महिला महराना को डॉक्टरों ने जिला चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया था।

पीड़ित परिवार का आरोप है कि सीएचसी में दो 102 नंबर की एंबुलेंस खड़ी थी और डॉक्टरों से जब पीड़ित परिवार ने 102 एंबुलेंस से जिला अस्पताल भिजवाने को कहा तो उन्होंने बोला कि 102 नहीं जाएगी, 108 पर फोन करो। हमने 108 पर फ़ोन किया तो करीबन 45 मिनट बाद एम्बुलेंस आई। हम वहां से चले तो रास्ते में हमारा बच्चा हो गया जो कुछ ही देर में मर गया। इस मामले में मुख्य चिकित्सा अधिकारी पी एस मिश्रा ने कहा कि वह खुद मोरना सीएचसी जाकर जांच करेंगे और इस मामले में सख्त कार्रवाई करेंगे।

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

सबसे पहले और ताज़ा खबरों के लिए सब्सक्राइब कीजिये वनइंडिया हिंदी यूट्यूब चैनल