• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

गैर-हिंदी राज्यों पर हिंदी थोपने का उड़िया भाषा के विशेषज्ञों ने किया विरोध

|
Google Oneindia News

भुवनेश्वर, 18 अप्रैल: गैर-हिंदी भाषी राज्यों पर हिंदी भाषा थोपने पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की टिप्पणी के खिलाफ ओडिशा के भाषा विशेषज्ञों ने जोरदार आवाज उठाई है। हाल ही में नई दिल्ली में संसदीय राजभाषा समिति की 37वीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए अमित शाह ने कहा था कि भारतीयों के बीच संचार के लिए हिंदी को अंग्रेजी की तरह एक विकल्प होना चाहिए, जिससे कई राज्य नाराज हो गए।

hindi

अमित शाह के बयान से ओडिशा के लोग चिंतित
अमित शाह जैसे बड़े नेता के इस बयान ने ओडिशा के लोगों को बहुत चिंतित कर दिया है क्योंकि उनका उड़िया भाषा से भावनात्मक लगाव है और वे इस पर गर्व महसूस करते हैं। उड़ीसा की जड़ें उड़िया भाषा से शुरू हुई। अपनी भाषा के लिए ओडिशा को 1 अप्रैल 1936 (स्वतंत्र पूर्व) को एक अलग राज्य के रूप में घोषित किया गया था। दरअसल, ओडिशा पहला राज्य है, जिसे भाषाई आधार पर अलग प्रांत घोषित किया गया। ओडिशा का गठन होने में उत्कल सम्मिलानी के दिलीप दाशशर्मा ने कहा, हम खुद पर जबरदस्ती हिंदी थोपने का कड़ा विरोध करते हैं। हमने पहले भी अपनी आवाज उठाई थी और हम कभी भी उड़िया लोगों पर हिंदी भाषा थोपने की अनुमति नहीं देंगे।

उन्होंने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) में केंद्र सरकार का कहना है कि प्राथमिक स्तर पर शिक्षण का माध्यम मातृभाषा में होगा। इसी तरह ओडिशा के पूर्व सांसद तथागत सत्पथी ने भी शाह के इस बयान का कड़ा विरोध किया है। अपने अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र, उड़ीसा पोस्ट में 'हिंदी अगेन' शीर्षक से एक संपादकीय लिखते हुए सत्पथी ने कहा कि हिंदी को जबरन थोपना अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के अस्तित्व को खत्म कर देगा और शायद वर्तमान राजनीतिक नेतृत्व को उम्मीद है कि धाराप्रवाह हिंदी भाषी नेता पूरे देश में मतदाताओं को अधिक आकर्षक लगेंगे।

पूर्व सांसद ने कहा, यह राज्यों को तय करना है कि उनकी संचार की भाषा क्या होनी चाहिए। केंद्र से अंग्रेजी का इस्तेमाल न करने का फैसला नहीं हो सकता है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि अंग्रेजी एक विदेशी भाषा है लेकिन यह सभी नागरिकों के लिए समान रूप से विदेशी है। भारत को भी एक बहुत ही विविध देश बताते हुए उन्होंने कहा कि आज बल का कोई भी प्रयोग संभवत: कल अप्रत्याशित आपदाओं का परिणाम हो सकता है

ओडिशा साहित्य अकादमी के अध्यक्ष हृषिकेश मलिक ने भी शाह के विवादित बयान पर नाराजगी जताई। मलिक ने कहा कि वह हिंदी भाषा के खिलाफ नहीं हैं। हालांकि, इसे सभी पर जबरदस्ती थोपा नहीं जाना चाहिए। मलिक ने कहा, हिंदी एक वैकल्पिक भाषा होनी चाहिए। ओडिशा में मातृभाषा उड़िया है, हमारे राज्य के लोगों के लिए पहली भाषा होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें- जहांगीरपुरी हिंसा पर बोले पुलिस कमिश्नर अस्थाना- मस्जिद में नहीं फहराया गया था भगवा झंडाये भी पढ़ें- जहांगीरपुरी हिंसा पर बोले पुलिस कमिश्नर अस्थाना- मस्जिद में नहीं फहराया गया था भगवा झंडा

Comments
English summary
Odia language experts protest against imposition of Hindi on non Hindi states
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X