• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अंग्रेजी भाषा पर स्वामी विवेकानंद का था बेहतरीन कमांड लेकिन मिले थे काफी कम नंबर

|

नई दिल्ली। अपनी नई सोच और विचारों से केवल भारत के ही नहीं बल्कि दुनिया को लोगों के दिलों में जगह बनाने वाले अध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद और अंग्रेजी का रिश्ता भी अपनेआप में काफी अनोखा है, उनकी इस भाषा पर पकड़ से दुनिया प्रभावित थी लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्वामी जी को अंग्रेजी में काफी कम अंक मिले थे।

एक वेश्या के कारण बदले थे स्वामी विवेकानंद के विचार...

इस बात का खुलासा 'द मॉडर्न मॉन्क: व्हाट विवेकानंद मीन्स टू अस टूडे' किताब में किया गया है। किताब में लिखा है कि एक संभ्रात परिवार में पैदा होने के कारण वह अच्छी से अच्छी शिक्षा हासिल कर पाए थे और इसी वजह से वो ब्रितानी प्रवाह के साथ अंग्रेजी बोल और लिख सकते थे। लेकिन पढ़ाई के दौरान उन्हें अंग्रेजी में काफी कम अंक मिले थे।

तीनों ही परीक्षाओं में 47 प्रतिशत अंक

उन्होंने विश्वविद्यालय की तीन परीक्षाएं दीं - एंट्रेंस एग्जाम, फर्स्ट आर्ट्स स्टैंडर्ड और बैचलर ऑफ आर्ट्स, इन तीनों ही परीक्षाओं में उन्हें 47 प्रतिशत अंक मिले थे, एफए में 46 प्रतिशत और बीए में 56 प्रतिशत अंक मिले थे। गणित और संस्कृत जैसे विषयों में भी उनके अंक औसत ही रहे।

'उठो, जागो और तब तक रुको नहीं जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाये'

हैरानी हुई ना कि इतना विद्दान इंसान नंबरों के मामले में औसत कैसे रह गया, 'उठो, जागो और तब तक रुको नहीं जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाये' जैसे विचारों से लोगों को प्रभावित करने वाले विवेकानंद ज्ञान के अथाह सागर थे।

यूरोप-अमेरिका लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे

25 साल की अवस्था में विवेकानंद ने गेरूआ वस्त्र धारण कर लिया था। सन्‌ 1893 में शिकागो (अमरीका) में विश्व धर्म परिषद् सम्मेलन चल रहा था । स्वामी विवेकानन्द उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप में पहुंचे थे। यूरोप-अमेरिका लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहां लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद् में बोलने का समय ही न मिले।

साइक्लॉनिक हिन्दू

लेकिन एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला। उस परिषद् में उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गये। वो तीन साल अमेरिका में रहे और वहां के लोगों को भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान की। इसलिए वहां की मीडिया ने उन्हें साइक्लॉनिक हिन्दू का नाम दिया था।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Swami Vivekananda's English language skills captivated thousands but his marks in the subject in the three university examinations he took were far from impressive, says a new book on the 19th century philosopher-monk.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more