• search
keyboard_backspace

म्‍युनिसिपल बॉन्ड के जरिए योगी सरकार बदलेगी यूपी के शहरों की तस्‍वीर

लखनऊ। स्‍वच्‍छ भारत मिशन के तहत प्रदेश की योगी सरकार ने शहरों तस्‍वीर बदलने का काम शुरू कर दिया है। प्रदेश सरकार ये तस्वीरे म्‍युनिसिपल बॉन्ड के जरिए बदलेगी। इसके लिए प्रदेश के नगर निगमों ने काम शुरू कर दिया है। तो वहीं, नगर निगम लखनऊ के बाद गाजियाबाद नगर निगम ने भारत में अपने पहले ग्रीन म्यूनिसिपल बॉन्ड के जरिए अब तक 150 करोड़ रुपए जुटाए हैं। इस पैसे से साहिबाबाद औद्योगिक क्षेत्र में सीवरेज को शोधित कर उन्हें उद्योगों को सप्लाई किया जाएगा। इस परियोजना पर 240 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। इसके अलावा बनारस, आगरा और कानपुर नगर निगम भी जल्‍दी अपना म्‍युनिसिपल बांड जारी करने की तैयारी में है।

Yogi government will change the image of UP cities through municipal bonds

गाजियाबाद नगर निगम के 150 करोड़ रुपए के म्‍युनिसिपल बॉन्ड के सापेक्ष बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) के ऑनलाइन प्लेटफार्म पर 401 करोड़ की बोली लगी। बीएसई में लिस्टेड 40 कंपनियों ने निगम के बॉन्ड खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है। हालांकि निगम सिर्फ 150 करोड़ रुपए ही बाजार से लेगा। म्‍युनिसिपल बॉन्ड के जरिए जुटने वाली 150 करोड़ की रकम को टर्सियरी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (टीएसटीपी) की परियोजना पर खर्च किया जाएगा। नगर निगम सीवर के अशुद्ध जल को साफ करके उसे साहिबाबाद की औद्योगिक इकाइयों को प्रयोग के लिए पुनः बेंचेगा। इसके तहत इंदिरापुरम में एक टीएसटीपी का निर्माण होगा। 240 करोड़ की इस परियोजना की 150 करोड़ की रकम ग्रीन म्युनिसिपल बॉन्ड से और बकाया 90 करोड़ की रकम अवस्थापना निधि से खर्च की जाएगी। इस योजना से भूजल का अंधाधुंध दोहन रुकेगा साथ ही जल प्रदूषण में भी कमी आएगी।

गौरतलब है कि ग्रीन बॉन्ड अपने आप में सबसे अनूठा बॉन्ड है। इस बॉन्ड से जुटाई गई रकम को संस्था, सरकारी समूह या कारपोरेट्स समूह पर्यावरण संरक्षण से जुड़ी परियोजनाओं के लिए खर्च करते हैं। गाजियाबाद नगर निगम की ओर से जारी 150 करोड़ का ग्रीन बॉन्ड वॉटर रिसायकल आधारित परियोजना के लिए जारी किया गया है।

म्‍युनिसिपल बांड बदलेंगे शहरों की तस्‍वीर
2 दिसंबर 2020 को लखनऊ नगर निगम ने भी प्रदेश की राजधानी को स्मार्ट बनाने के लिए 200 करोड़ रुपए का बॉन्ड जारी किया था। कोविड आपदा के कालखंड में भी निवेशकों ने योगी सरकार पर भरोसा जताया और एलएमसी बॉन्ड को बाम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज में हाथों हाथ लिया गया। नतीजन एलएमसी का बॉन्ड 225 फीसदी से अधिक सब्सक्राइब हुआ है। बीएसई में लिस्टिंग समारोह में रिंगिंग बेल सेरेमनी में खुद सीएम योगी ने परंपरानुसार बेल बजाकर लखनऊ नगर निगम का म्युनिसिपल बॉन्ड जारी किया था। लखनऊ नगर निगम की सफलता को देखने के बाद आगरा, बनारस, कानपुर भी म्‍युनिसिपल बांड जारी कर अपने शहरों में सफाई व विकास का नया खाका खींचने की तैयारी में जुट गए हैं।

ये भी पढ़ें:- गोरखपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए 50 करोड़ की राशि को मंजूरी, योगी सरकार ने जारी की पहली किश्तये भी पढ़ें:- गोरखपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए 50 करोड़ की राशि को मंजूरी, योगी सरकार ने जारी की पहली किश्त

English summary
Yogi government will change the image of UP cities through municipal bonds
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X