• search
keyboard_backspace

उत्तराखंड सरकार ने कहा- तय होगा सहकारिता का ढांचा, नियमावली बनाई जाएगी

Google Oneindia News

देहरादून, 30 जुलाई: उत्तराखंड सहकारिता विभाग की प्रमुख सहकारी संस्था प्रादेशिक को-आपरेटिव यूनियन (पीसीयू) की प्रथम बोर्ड बैठक में सहकारिता मंत्री डा. धन सिंह रावत ने कहा कि आगामी विधानसभा सत्र में सहकारिता का ढांचा तय किया जाएगा। इसके अलावा सहकारिता समिति अधिनियम, सहकारिता समिति कर्मचारी सेवा नियमावली लाई जाएगी। मंत्री ने नवनिर्वाचित कार्यकारिणी को शुभकामनाएं दी।

uttarakhand

गुरुवार को राजपुर रोड स्थित इंस्टीट्यूट आफ को-आपरेटिव मैनेजमेंट में हुई बैठक में सहकारिता मंत्री ने नवनिर्वाचित बोर्ड को संबोधित करते हुए कहा कि सहकारिता के प्रशिक्षण के मामलों में यूनियन तेजी लाए और प्रदेशभर में ट्रेनिंग सेंटर स्थापित करें। उन्होंने बोर्ड को भरोसा दिया कि सरकार उनके कामों को सहयोग प्रदान करेगी। कहा कि सहकारिता विभाग ने पिछले साढ़े चार साल में कई अहम बदलाव किए हैं। को-आपरेटिव बैंक ने एनपीए की अच्छी वसूली की है।

बैंकों में पारदर्शिता के साथ आइबीपीएस के माध्यम से नियुक्तियां कराई गई हैं, प्रदेश में 13 महिला शाखाएं खोली गई हैं। कहा कि उत्तराखंड उन चुनिंदा राज्यों में शामिल हो गया है, जिन्होंने पैक्स कंप्यूटराइजेशन कराया है। इससे न्याय पंचायत स्तर पर सहकारिता विभाग कंप्यूटरीकृत हो गया है। कहा कि उत्तराखंड में 32 लाख लोग को-आपरेटिव से जुड़े हैं। प्रदेश के पांच लाख किसानों को ब्याज मुक्त कर दिया है।

राज्य सहकारी संघ को पर्वतीय क्षेत्रों से मंडवा, झंगोरा, सोयाबीन, राजमा आदि उत्पादों को किसानों से उचित मूल्य पर लेने के लिए निर्देशित किया है। जिससे किसानों की आय बढ़ सके और राज्य सहकारी संघ को बाजार मिल सके। मंत्री ने कहा कि सहकारिता में किसी भी तरीके का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जहां भी अनियमितताएं मिलेगी वहां जांच कराकर कार्रवाई की जा रही है।

प्रादेशिक को-आपरेटिव यूनियन के चेयरमैन रामकृष्ण मेहरोत्रा की अध्यक्षता में आयोजित प्रथम बोर्ड बैठक में उत्तराखंड से मिट्टी के बर्तनों में गंगाजल का निर्यात करने पर मुहर लगी। इसके अलावा देहरादून में जल्द ही आइसीसीएमआरटी ट्रेनिंग सेंटर खोला जाएगा। जिसमें को-आपरेटिव सर्विसेस से संबंधित पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे और को-आपरेटिव व को-आपरेटिव बैंकों से जुड़े व्यक्तियों को विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा। बोर्ड बैठक में यह भी निर्णय हुआ कि यूनियन अपनी गृह पत्रिका प्रति माह प्रकाशित करेगी, जिसमें को-आपरेटिव से संबंधित रिपोर्ट आलेख होगी। इसके लिए यूनियन का छापाखाना लगाने पर भी विचार हुआ।

नाराज ग्रामीणों ने बीजेपी विधायक कमल सिंह को गंदे पानी में घुमाया, विकास का ब्योरा बताने पहुंचे थे गांवनाराज ग्रामीणों ने बीजेपी विधायक कमल सिंह को गंदे पानी में घुमाया, विकास का ब्योरा बताने पहुंचे थे गांव

English summary
uttarakhand govt says structure of cooperative will be decided in state
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X