• search
keyboard_backspace

गुजरात: सैनिटरी नैपकिन मेकिंग प्रोजेक्ट की चिखली तालुका में कराई शुरुआत, महिलाओं को देंगे ट्रेनिंग

नवसारी। गुजरात में नवसारी जिले के चिखली तालुका के अंदर जिला ग्रामीण विकास एजेंसी व नवसारी के श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन मिशन (Shyama Prasad Mukherji Rurban Mission-SPMRM) के तहत सेनेटरी नैपकिन मेकिंग प्रोजेक्ट के कार्यान्वयन के लिए रूमला को चुना गया। जिसमें महिलाओं को आजीविका प्रदान करने के उद्देश्य से मिशन मंगलम-एनआरएलएम योजना के माध्यम से रूमला में सेनेटरी नैपकिन मेकिंग प्रोजेक्ट पर प्रशिक्षण शुरू किया गया है।

सरकारी अधिकारी ने बताया कि, 'इस परियोजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र की बहनों को मासिक धर्म संबंधित जानकारी, ध्यान रखने जैसी सावधानियां, सेनेटरी नैपकिन का उपयोग करने की आवश्यकता के साथ-साथ अन्य वस्तुओं के उपयोग के कारण होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी ग्रामीण क्षेत्र के अंतिम महिलाओं तक पहुंच सकेंगी। सखी मंडल की बहनों को सरकार द्वारा रोजगार पाने का यह अनूठा और सुनहरा अवसर दिया गया है। इस पर रूमला की बहनों ने सरकार को धन्यवाद दिया है।''

in gujarat, administration launches Sanitary Napkin Making project-training-in-chikhali-taluka

मूकबधिर महिला नवसारी-181 टीम ने परिवार को सौंपी

वहीं, एक और सराहनीय कोशिश की गई, यूं कि एक व्यक्ति ने 181 पर कॉल किया और कहा कि एक 30 वर्षीय महिला जो बोल नहीं सकती थी और उसे नहीं पता था कि उसे कहां की है, लेकिन उसे मदद की जरूरत है। नवसारी की 181 टीम मौके पर पहुंची और महिला से परामर्श करने के बाद पता चला कि उसने भाई-भाभी की प्रताड़ना के कारण घर छोड़ दिया था। महिला की परिस्थति को जानने के बाद उसके पास एक छोटी बैग में से मिली आई कार्ड से पता चला कि वह सात साल से एक डायमंड कंपनी में काम करती थी, जिसमें उसक घर का पता भी लिखा था, चूंकि वह नवसारी की रहने वाली थी। इसलिए उसे उसके घर ले जाया गया, जहां आसपास के लोगों से पता चला कि उसकी माँ की मृत्यु के बाद उसे खाना भी नहीं देते थे और उसके भाई-भाभी उसे पीटते भी थे।

स्वर्णिम जयंती मुख्यमंत्री शहरी विकास योजना के तहत 4 शहरों को CM रूपाणी ने आवंटित कराए करोड़ों

महिला को उसके परिवार में उसके पिता और भाभी को सौंप दिया गया है। टीम ने परिवार को उनकी स्थिति को देखते हुए कानूनी जानकारी देकर अपना फर्ज निभाने को कहा है। इस प्रकार, 181 अभयम ने घर से निकली बहरी और गूंगी महिला को उसके परिवार तक सुरक्षित पहुंचाकर 24 घंटे सातों दिन सेवा का प्रशंसनीय कार्यकर का एक उदाहरण पेश किया है।

English summary
in gujarat, administration launches Sanitary Napkin Making project-training-in-chikhali-taluka
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X