• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या मेहुल चोकसी मामले की जांच को भटकाने की कोशिश हो रही है ?

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 09 जून। डोमिनिका में मेहुल चौकसी की गिरफ्तरी, कानूनी दांव पेंच में उलझी किसी थ्रिलर फिल्म की पटकथा बनती जा रही है। उसके डोमिनिका में अवैध प्रवेश के मामले को अपहरण में बदलने की कोशिशें हो रही हैं। इसके लिए कई खबरें प्लांट की जा रही हैं। अगर चोकसी के अपहरण की थ्योरी कोर्ट में साबित कर दी जाती है तो उसके अवैध प्रवेश का मामला ही खत्म हो जाएगा।

    Mehul Choksi की कथित Girlfriend Barbara Jabarica ने मेहुल को लेकर क्या कहा? | वनइंडिया हिंदी
    investigation mehul choksi allegation on ntiguan police to beat up and kidnapping

    कहा जा रहा है कि इसके लिए ही चोकसी की तथाकथित गर्लफ्रैंड को ढाल बनाया गया है। चोकसी की उम्र 62 साल हो चली है। वह बाल बच्चेदार है। उसकी एक बेटी की शादी 2011 में ही हो चुकी है। इस उम्र में चोकसी की कोई गर्लफ्रैंड होगी, वह चोकसी के ऑफिस- घर आती-जाती होगी और उसकी पत्नी को कोई एतरज भी न होगा, ऐसी बातों पर भरोसा करना मुश्किल हो रह है। एंटीगुआ बारबुडा रॉयल पुलिस के कमिश्नर एटली पैट्रिक रॉड्नी का कहना है कि मेहुल चोकसी के बारे में भारतीय मीडिया में कुछ ऐसी खबरें भी प्रकाशित हो रही हैं जो सत्य नहीं हैं। कुछ मीडिया समूह वही छाप रहे हैं जो मेहुल चोकसी की पत्नी और वकील बता रहे हैं। ये खबरें जांच की दिशा को भटकाने के लिए फैलायी जा रही हैं।

    जांच की दिशा को भटकाने की कोशिश !

    जांच की दिशा को भटकाने की कोशिश !

    मेहुल चोकसी पर साढ़े तेरह हजार करोड़ रुपये के घोटाला का आरोप है। ये कोई मामूली रकम नहीं है। डोमिनिका जैसे छोटे देश की कुल अर्थव्यवस्था से भी यह रकम बड़ी है। इतने बड़े अपराध से बचने के लिए ही मेहुल चोकसी ने नागरिकता बदलने का खेल खेला। लेकिन डोमिनिक में उसकी गिरफ्तारी ने सब चौपट कर दिया। डोमिनिका कहीं, मेहुल चोकसी को भारत प्रत्यर्पित न कर दे इसलिए उसके अपहरण की कहानी स्थापित की जा रही है। क्या उसकी गिरफ्तारी की जांच को भटकने की कोशिश हो रही है ? वह हीरा कारोबारी है। उसके पास पैसे की कोई कमी नहीं है। कैरीबियन देश डोमिनिका के मीडिया जगत में इस बात की चर्चा है कि मेहुल चोकसी के लोग उसके केस को प्रभावित करने के लिए दबाव बना रहे हैं। डोमिनिका के न्यूज़ पोर्टल एसोसिएटेड टाइम्स डॉट कॉम ने सबसे पहले खुलासा किया था कि चेतन चोकसी , डोमिनिका के विपक्षी नेता लेनेक्स क्लिंटन के सहयोग से अपने भाई को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। अब चेतन चौकसी के वकील ने एसोसिएटेड टाइम्स को नोटिस भेज कर डराने की कोशिश की है।

    मेहुल चोकसी को पीड़ित क्यों दिखाया जा रहा ?

    मेहुल चोकसी को पीड़ित क्यों दिखाया जा रहा ?

    मेहुल चौकसी ने अकेले भारतीय अर्थ व्यवस्था को मटियामेट कर दिया। भारत और इंटरपोल की नजर में वह ‘मोस्टवांटेड' है। इसके बावजूद उसे भारतीय मीडिया में वैसे पीड़ित व्यक्ति के रूप में दिखाया जा रहा है जिसके साथ अन्याय हुआ है। मेहुल चोकसी को भारत लाने के इरादे से सीबीआइ और ईडी की एक टीम डोमिनिका गयी थी। लेकिन इस मामले में कानूनी पेचीदगी बढ़ जाने के बाद इस टीम को खाली हाथ लौटना पड़ा। मीडिया के एक वर्ग ने इस खबर को लेकर भारतीय एजेंसी की खिल्ली उड़ायी। इसे बेकार और फिजुलखर्ची वाली कोशिश करार दिया गया। मेहुल के वकील के उस बयान को प्रमुखता से छापा गया जिसमें उन्होंने प्रत्यर्पण को लेकर कहा था, बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना। पंजाब नेशनल बैंक का घोटला, भारत के सबसे बड़े घोटालों में से एक है। भारतीय लोगों ने अपनी मेहनत की कमायी बैंकों में जमा की थी जिसे एक व्यक्ति ने फरेब कर लूट लिया। साढ़े तेरह हजार करोड़ रुपये तो भारत के उत्तराखंड जैसे राज्य के सालाना बजट का चौथाई हिस्सा है। इस बड़ी रकम की रिकवरी के लिए मोहुल चौकसी का पकड़ा जाना बेहद जरूरी है। ऐसे में भारत उसको गिरफ्त में लेने की कोशिश कर रहा है तो इसमें गलत क्या है ? अगर मेहुल चोकसी को भारत लाने में कामयाबी मिलती है तो उसके खिलाफ सारे केस खुल जाएंगे। भारतीय कोर्ट में उसके खिलाफ मुकदमा चलने लगेगा। उसके हीरा-जवाहरत, महंगी कारें, बंगले और दूसरी कीमती सम्पत्तियों को जब्त कर भारत घोटाले का पैसा रिकवर कर सकता है।

    अगली सुनवाई 14 जून को

    अगली सुनवाई 14 जून को

    डोमिनिका के कोर्ट में मेहुल चौकसी मामले की अगली सुनवाई 14 जून को होनी है। डोमिनिका के प्रधानमंत्री रोजवेल्ट स्केरिट ने कहा है कि अदालत जल्द ही मेहुल के भविष्य के बारे में कनूनसम्मत फैसला करेगी। जब तक वह जेल में है हम उसके मानवाधिकारों की रक्षा करेंगे। एंटीगुआ और भारत में उसके कानूनी मामलों से हमें कुछ लेना देना नहीं। जानेमाने कानूनविद हरीश साल्वे, मेहुल चौकसी मामले में भारत का मार्गदर्शन कर रहे हैं। वे अंतर्राष्ट्रीय कानून के जानकार हैं। भारत इस मामले में पक्षकर नहीं है। लेकिन अगर डोमिनिका सरकार ने इस मामले में भारत को भी पक्ष रखने की इजाजत दी तो हरीश साल्वे कोर्ट में भारत क प्रतिनिधितव कर सकते हैं। सारा मामला अब कानूनी दांवपेंच पर निर्भर हैं। इस बीच एंटीगुआ एंड बारबुडा के सूचना मंत्री मेलफोर्ड निकोलस ने कहा है कि मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने की प्रकिया शुरू की जा रही है क्यों कि उसने झूठी जानकारी दी थी।

    English summary
    investigation mehul choksi allegation on ntiguan police to beat up and kidnapping
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X