• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पार्टनर के कॉन्डोम में छेद करने पर महिला को सजा मिली

|
Google Oneindia News
पार्टनर को बिना बताये कॉन्डोम में छेद करने पर सजा मिली

पश्चिमी जर्मनी की एक अदालत ने एक महिला को यौन दुर्व्यवहार का दोषी मानते हुए छह महीने के निलंबित जेल की सजा सुनाई है. महिला को जान बूझ कर अपने पार्टनर के कॉन्डोम को नुकसान पहुंचाने का दोषी माना गया है. जर्मन मीडिया ने यह खबर दी है.

सजा सुनाते हुए जज ने कहा कि जर्मन कानून के इतिहास की किताबों में यह एक अनोखा मामला है. इसमें कपट का अपराध किया गया है लेकिन यह काम एक महिला ने किया है.

आखिर ये मामला क्या है?

पश्चिमी जर्मनी की बिलेफेल्ड की क्षेत्रीय अदालत ने यह सजा सुनाई है. इस बारे में स्थानीय अखबार नॉये वेस्टफेलिशे और जर्मनी के प्रमुख अखबार बिल्ड ने खबर छापी है.

यह मामला एक 39 साल की महिला से जुड़ा है जिसका "फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स" जैसा संबंध 42 साल के एक पुरुष के साथ था. दोनों की मुलाकात 2021 में किसी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर हुई और फिर इनके बीच अनौपचारिक सेक्स का एक रिश्ता बन गया.

अखबारों की रिपोर्ट के मुताबिक महिला के मन में अपने पार्टनर के प्रति गहरा प्यार पैदा हो गया लेकिन वो जानती थी कि वह इस रिश्ते में किसी तरह की प्रतिबद्धता नहीं चाहता है.

इस महिला ने जान बूझ कर और उसे बताये बगैर उसके कॉन्डोम में छेद कर दिये जो उसके पार्टनर ने उसके घर रखे थे. वह गर्भवती होना चाहती थी हालांकि उसकी कोशिशें कामयाब नहीं हो सकीं.

कई बार पुरुष सेक्स के दौरान बिना बताये कॉन्डोम निकाल देते हैं, यह भी जुर्म है

इतना ही नहीं उसने बाद में अपने पार्टनर को व्हाट्सऐप पर संदेश भेजा कि उसे लगता है कि वह गर्भवती है और उसने यह भी बताया कि जान बूझ कर उसने कॉन्डोम में छेद कर दिये थे.

इसके बाद उसके पार्टनर ने उसके खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराया. महिला ने भी यह स्वीकार किया कि वह अपने पार्टनर के साथ चालाकी से काम निकालने की कोशिश कर रही थी.

यह भी पढ़ेंः जर्मनी में वेश्यावृत्ति कानून का विरोध क्यों कर रही हैं सेक्स वर्कर

यह मामला ऐतिहासिक क्यों है?

अभियोजक और अदालत इस बात पर सहमत हो गए थे कि इस मामले में अपराध हुआ है हालांकि शुरुआत में वो यह तय नहीं कर पा रहे थे कि इस महिला के खिलाफ आखिर उसे किस आरोप में दोषी माना जाय.

जज आस्ट्रिड सालेव्स्की ने कोर्ट में कहा, "हमने यहां आज कानून का इतिहास लिखा है."

पहली जांच में यह पता लगाने की कोशिश की गई कि क्या इसे बलात्कार माना जाये. फिर जजों ने इस मामले में कानून की समीक्षा करने के बाद इसे यौन दुर्व्यहार का मामला माना और महिला को "कपट" का दोषी माना.

"कपट" के आरोप आमतौर पर तब लगते हैं जब कोई पुरुष सेक्स के दौरान चुपके से कॉन्डोम निकाल देता है और उसके पार्टनर को यह बात पता नहीं चलती.

जज सालेव्सकी ने अपने फैसले में कहा, "यह प्रावधान दूसरे पक्ष पर भी लागू होता है. कॉन्डोम को बिना पुरुष की जानकारी या फिर सहमति के बेकार कर दिया गया." सालेव्स्की का कहना है, "ना का मतलब यहां भी ना होगा."

अदालत ने महिला को निलंबित सजा सुनाई है यानी उसे जेल तो नहीं जाना होगा लेकिन उसे एक सजायाफ्ता मुजरिम माना जायेगा और हो सकता है कि उसकी नौकरी या दूसरे कुछ मामलों में दिक्कत का सामना करना पड़े.

Source: DW

Comments
English summary
Woman punished for piercing her partner's condom
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X