• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पिथौरागढ़: लकड़ी से ग्रामीणों ने बनाया अस्थायी स्ट्रेचर, मरीज को पथरीले रास्ते से पहुंचाया अस्पताल

|

पिथौरागढ़। उत्तराखंड में भारी बारिश एक बार फिर तबाही लेकर आई है। यहां बादल फटने से 3 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 लोग लापता हो गए। आपदा से हुए जान-माल के नुकसान को देखते हुए सरकार और शासन दोनों वहां चल रहे बचाव एवं राहत कार्यों पर नजर रखे हैं। हालांकि पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में बारिश ने व्यापक नुकसान पहुंचाया है। बारिश और भूस्खलन से मुनस्यारी इलाके में सड़कें गायब हो चुकी हैं।

    लकड़ी से ग्रामीणों ने बना अस्थायी स्ट्रेचर, मरीज को पथरीले रास्ते से पहुंचाया अस्पताल

    Villagers transported a patient to a hospital on a temporary stretcher made of wood logs in Munsiyari area of Pithoragarh

    बारिश और भूस्खलन से सड़कें गायब होने पर मुनस्यारी इलाके के ग्रामणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है। दरअसल, यहां एक महिला बीमार पड़ गई तो मदद के लिए स्थानीय लोग आगे आए। उन्होंने लकड़ी से अस्थाई स्ट्रेचर बनाया और महिला को उस पर बिठाकर पहाड़ी रास्ते पर चलते हुए अस्पताल पहुंचाया। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। दरअसल बादल फटने से रविवार को यहां भारी बारिश हुई और भूस्खलन के चलते अस्पताल और गांव को जोड़ने वाली सड़क भी क्षतिग्रस्त हो गई थी।

    क्षेत्र में आफत की बारिश के बाद सभी संपर्क मार्ग बंद हैं। सीमांत मुनस्यारी व बंगापानी क्षेत्र के लोगों के लिए रविवार की रात सोमवार की सुबह आसमान से बादल मुसीबत बनकर बरसे। भारी बारिश के बीच पत्थरकोट में पेड़ के साथ आये मलबे के शेर सिंह के मकान में घुसने से उनकी पत्नी व दो पुत्री ममता व गीता की मौत हो गई। इस हादसे में डिगर सिंह, रूकमणी देवी, डिला देवी प्रियंका देवी घायल हुए हैं। ऐसे में उनकी मदद के लिए आई पुलिस टीम के सामने भी बंद रास्तों के कारण घायलों को अस्पातल पहुंचाना चुनौती बन गया है।

    पिथौरागढ़ में 22 सड़कें बंद

    वहीं, दूसरी तरफ पिथौरागढ़ में भारी बारिश के कारण जिले की 22 सड़कें बंद हो गई। जौलजीबी- मुनस्यारी और थल मुनस्यारी सड़क के जगह-जगह मलबा आने से शेष दुनिया से संपर्क कट गया है। सीमांत के धारचूला में 149 एमएम बारिश हुई। मुनस्यारी में 84 और डीडीहाट में 56 एमएम बारिश हुई। बता दें कि तवाघाट- घटियाबगड़, तवाघाट- सोबला, थल- मुनस्यारी, दराती-मटियानी, मदकोट- बसंतकोट, मदकोट- बौना, तवाघाट- नारायण आश्रम, गिनी बैंड- समकोट, नाचनी-भैसकोट, सोसा- सिर्खा, छिरकिला- जम्कू, मदकोट- दारमा, मदकोट-मुनस्यारी, मदकोट- फाफा, बांसबगड़-माणीधामी, बांसबगड़-कोटा पंद्रहपाला, बंगापानी- जाराजीबली, रमतोली- रंगतोली, डीडीहाट- घोरपट्टा, संगौड़-दशौली दानू, मुनस्यारी- मिलम सड़क बंद चल रही हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Villagers transported a patient to a hospital on a temporary stretcher made of wood logs in Munsiyari area of Pithoragarh
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X