• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

'जिस तरह अर्जुन की निगाहें मछली की आंख पर थी, उसी तरह मैरी नजर भी सैन्य धाम पर' : गणेश जोशी

|
Google Oneindia News

देहरादून, 29 नवंबर। उत्तराखंड में सैन्य धाम को पांचवें धाम के रूप में विकसित किया जा रहा है। इसके लिए राज्य सरकार सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी की पहल पर शहीद सम्मान यात्रा निकाल रही है। जिसमें शहीदों के घर-घर जाकर आंगन की मिट्टी को इकट्टा कर देहरादून लाया जा रहा है। जिनसे सैन्य धाम का निर्माण होगा। ऐसे में चुनावी साल में सैनिकों के मुद्दे पर राजनीति भी होने लगी है। सैनिक बाहुल्य प्रदेश होने की वजह भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी हर कोई सैनिकों को लुभाने में लगे हैं। लेकिन सैनिक कल्याण मंत्री का दावा है कि सैनिकों की हितैशी सिर्फ भाजपा की सरकार है। सैन्य धाम, अपनी विधानसभा मसूरी के विकास के रोडमैप और चुनावी तैयारियों को लेकर कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी से वन इंडिया ने की खास बातचीत।

Just as Arjuns eyes were on the fishs eyes, Marys eyes were on the military Dham: Ganesh Joshi

पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है सैन्य धाम
उत्तराखंड सैन्य बाहुल प्रदेश है। ऐसे में सरकार ने सैन्य धाम को अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के तौर पर शामिल किया है। इसके लिए राज्य सरकार देहरादून में सैन्य धाम का निर्माण कर रही है। जिसके लिए शहीदों के घरों की मिट्टी को इकट्ठा कर देहरादून में सैन्य धाम के निर्माण में लाया जाएगा। इसके लिए प्रदेश के 1734 शहीदों के घरों को चिह्रित किया गया है। 15 नवंबर को यात्रा की शुरूआत चमोली जिले से हो चुकी है। यह यात्रा प्रदेश के कई जिलों में पहुंच चुकी है। सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि सैन्य धाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है। जिस तरह अर्जुन की निगाहें मछली की आंख पर थी, मैरी नजर सैन्य धाम पर है। मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि इस यात्रा से श हीदों के परिजनों की भावनाएं जुड़ी हैं। जो कि मंदिर की तरह बनाया जा रहा है। साथ ही सैन्य धाम भव्य रूप दिया जा रहा है। इसमें शहीदों के चित्र, अमर ज्योति, म्यूजियम, थियेटर, लाइटिंग सिस्टम आदि शामिल किए गए हैं। जिसमें शहीदों के घरों के भाव अहम हैं।

कर्नल कोठियाल के साथ नहीं कोई फौजी
दूसरे दलों के सैनिकों को लुभाने को लेकर गणेश जोशी ने इसे चुनावी शिगुफा बताया है। कर्नल अजय कोठियाल के आम आदमी पार्टी में जाने और सीएम प्रत्याशी बनाए जाने पर गणेश जोशी ने कहा कि कर्नल ने भले ही सालों तक देश की सेवा की है, लेकिन उनके नेता अ रविंद केजरीवाल ने देश की सेना पर सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर सबूत मांगकर सवाल खड़े किए थे। ऐसे व्यक्ति को कर्नल ने अपना मुखिया मान लिया है। उन्होंने कहा कि इसी कारण कर्नल के साथ कोई फौजी नहीं है। कांग्रेस के नेता और पूर्व सीएम हरीश रावत के पूर्व सैनिकों को टिकटों में भागीदारी सुनिश्चित करने के सवाल पर गणेश जोशी ने कहा कि भाजपा ही एक दल है जो पूर्व सैनिकों का सम्मान करती है। एक सैनिक को बेटे को मुख्यमंत्री बनाना और एक पूर्व सैनिक को कैबिनेट मंत्री बनाना इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। इसके साथ ही उदाहरण देते हुए उन्होंने वन रैंक वन पेंशन का जिक्र भी किया।

अधिकतर उपनलकर्मी सरकार के फैसले से संतुष्ट
उपनल कर्मियों के वेतन और आंदोलन के मुद्दे पर गणेश जोशी ने कहा कि उपनल का गठन पूर्व सैनिक या उनके परिजनों के लिए किया गया है। जहां तक आंदोलन की बात है तो उनकी सरकार ने उपनल कर्मियों के वेतन बढ़ाने के साथ प्रति वर्ष साढ़े 7 परसेंट की वृद्धि् का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि 23 हजार में से 500 से 700 लोग ही असंतुष्ट हो सकते हैं, बाकि सब संतुष्ट हैं। बतौर उद्योग मंत्री, पहाड़ में इंडस्ट्री को बढ़ावा देने और पलायन रोकने को लेकर मंत्री ने कहा कि उन्हें समय कम मिला है, लेकिन इसमें भी वे बेहतर काम करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके लिए वे प्रवासियों को सब्सिडी और बढ़ावा दे रहे हैं। साथ ही पलायन रोकने के लिए उनकी सरकार ने महिलाओं को और पूर्व सैनिकों को 5 परसेंट सब्सिडी में अतिरिक्त छूट देने की पहल की है।

मसूरी को जल्द मिलेगी जाम से निजात
मसूरी विधानसभा के विधायक के नाते मंत्री गणेश जोशी पर्यटन के लिहाज से भारत ही न हीं विश्व के पर्यटकों की चुनिंदा जगहों में से एक पहाड़ों की रानी मसूरी के लिए लगातार सौगात और योजना तैयार करने में जुटे हैं। उन्होंने बताया कि मसूरी में जाम की समस्या सबसे बड़ी समस्या है। इसे हमेशा के लिए दूर करना का प्रयास किया जा रहा है। जिसके लिए 32 करोड़ की लागत से पार्किंग बनने जा रही है। साथ ही भारत सरकार की मदद से पेयजल की समस्या को दूर करने के लिए बड़ी योजना पर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मसूरी में जल्द ही टनल का शिलान्यास भी किया जाएगा। जो कि मसूरी ही नहीं आसपास के इलाकों के लिए मील का पत्थर साबित होगा। इससे भी जाम की समस्या से काफी हद तक निजात मिलेगी।

ये भी पढ़ें-उत्तराखंड: चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने खेला 'राजधानी कार्ड', कहीं BJP को भारी ना पड़ जाए ये मुद्दा?ये भी पढ़ें-उत्तराखंड: चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने खेला 'राजधानी कार्ड', कहीं BJP को भारी ना पड़ जाए ये मुद्दा?

Comments
English summary
Just as Arjun's eyes were on the fish's eyes, Mary's eyes were on the military Dham: Ganesh Joshi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X