• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

हरिद्वार कुंभ: इस वजह से सीएम तीरथ सिंह नहीं लगाना चाहते श्रद्धालुओं पर प्रतिबंध

|
Google Oneindia News

हरिद्वार: 1 अप्रैल से हरिद्वार में कुंभ मेला शुरू हो जाएगा। ऐसे में जो कुंभ पहले कई प्रतिबंधों के साथ शुरू होने जा रहा था, वो अब कोई रोकटोक नहीं चाह रहा है। ऐसा इसलिए की उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ओर से लिया गया निर्णय बताता है कि राज्य सरकार मेला सभी लोगों के लिए खुले रहने के पक्ष में है। हालांकि ये निर्णय पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की घोषणा के विपरीत है, जिसमें उन्होंने कहा था कि हरिद्वार को एक और 'वुहान' बनाने के लिए जोखिम नहीं उठाया जा सकता है।

haridwar kumbh mela 2021

वहीं अब नए सीएम तीरथ सिंह रावत की बात करे तो उन्होंने कहा था कि केंद्र के दिशा निर्देशों के मुताबिक कोरोना गाइ़लाइन की पालना की जाएगा। शनिवार को हरिद्वार महाकुंभ 2021 के तहत मीडिया सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि केन्द्र द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइन्स के अलावा कोई भी पाबंदी कुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं पर लागू नहीं होगी। देश और दुनिया के श्रद्धालु हरिद्वार कुंभ क्षेत्र में आ सकते हैं। आवश्यक टेंट लगेंगे, शौचालय बनेंगे और सभी महामंडलेश्वर को जगह व अन्य सुविधाएं दी जाएंगी।

इससे पहले 11 मार्च को 32 लाख से ज्यादा भक्त महाशिवरात्रि के अवसर पर 'शाही स्नान' के लिए हरिद्वार पहुंचे थे। वहीं अब 12 अप्रैल, 14 अप्रैल और 27 अप्रैल को और भीड़ बढ़ने की उम्मीद है। हालांकि इससे पहले भी सीएम तीरथ सिंह रावत इस बात को दोहरा चुके है कि कुंभ के दौरान सभी कोविड के दिशा निर्देशों का पालन करना आवश्यक है, लेकिन मेले में आने वाले लोगों को असुविधा का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए भी काम किए जा रहे है। रावत ने कहा था कि लोगों को गंगा में पवित्र डुबकी लगाने से वंचित करने की जरूरत नहीं है। साथ ही उन्होंने इस बात को भी दोहराया था कि अप्रैल में होने वाले तीनों शाही स्नान चुनौतीपूर्ण होंगे।

कुंभ मेला 2021: पुलिस का स्पेशल साइकिल स्कवॉड, हरिद्वार की तंग गलियों और संकरे रास्तों पर रखेगा नजरकुंभ मेला 2021: पुलिस का स्पेशल साइकिल स्कवॉड, हरिद्वार की तंग गलियों और संकरे रास्तों पर रखेगा नजर

पर्यटन को पिछले साल लगा था झटका

वहीं अगर इसके पीछे की वजह पर गौर करे तो पहले शुरू में मेला में प्रवेश की अनुमति के बारे में कड़े नियमों की घोषणा से ऐसा लगता था कि सरकार लोगों को धार्मिक होने से रोकने के लिए एक संदेश दे रही है। इधर चुनावी रैलियों में भीड़ की मौजूदगी पर भी सवाल उठाए गए। ऐसे में नवनिर्वाचित सीएम के पास पहला एजेंडा कुंभ मेला है, वहीं कुंभ मेले को खोलने का एक अन्य अपेक्षित कारण यह है कि उत्तराखंड पर्यटन को पिछले साल झटका लगा। यहां तक की कांवड़ यात्रा रद्द होने के साथ चार धाम यात्रा भी सीमित पैमाने पर स्थगित हो गई, जिससे देवभूमि को काफी नुकसान हुआ है। ऐसे में कुंभ मेले से एक नई उम्मीद जगी है।

Comments
English summary
haridwar kumbh mela 2021 cm tirath singh rawat no want any restrictions during kumbh mela time
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X