• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

UP राज्यसभा चुनाव : जयंत चौधरी और डिपंल में से किसपर दांव लगाएंगे अखिलेश यादव, जानिए

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 26 मई: उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर सियासी बिसात बिछनी शुरू हो गई है। एक दिन पहले ही कांग्रेस के पूर्व नेता कपिल सिब्बल ने सपा चीफ अखिलेश यादव की मौजूदगी में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर अपना नामांकन दाखिल किया था। सपा ने राज्यसभा की दो सीटों पर अपने उम्मीदवारों से नामांकन करा लिया लेकिन तीसरी सीट को लेकर पेंच फंसा हुआ है। दरअसल विधानभा चुनाव के दौरान ही अखिलेश ने जयंत से यह वादा किया था कि वह गठबंधन के तहत रालोद प्रमुख जयंत चौधरी को राज्यसभा भेजेंगे। हालांकि सूत्र बता रहे हैं कि अब अखिलेश ने उनके सामने सपा के सिंबल पर ही राज्यसभा जाने की बात रखी है जिसे जयंत मानने को तैयार नहीं हैं। माना जा रहा है कि जयंत तैयार न हुए तो अखिलेश अपनी पत्नी और पूर्व सांसद डिंपल यादव को राज्यसभा भेज सकते हैं।

Rajyasabha Election: Dimple yadav का पत्ता कटा, अब लड़ेंगी Azamgarh LokSabha चुनाव | वनइंडिया हिंदी
डिंपल यादव को मिल सकती है तीसरी सीट

डिंपल यादव को मिल सकती है तीसरी सीट

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव अपनी पार्टी के टिकट पर सहयोगी जयंत चौधरी को राज्यसभा नहीं भेज रहे हैं। पार्टी के पास ऊपरी सदन की तीन सीटों में से दो के लिए नामांकन दाखिल किया जा चुका है। पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल, जिन्होंने आज खुलासा किया कि उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी है, ने समाजवादी पार्टी द्वारा समर्थित एक निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। जावेद अली खान ने भी पार्टी से अपना नामांकन दाखिल किया है। तीसरी सीट पार्टी नेता डिंपल यादव को मिल सकती है, जो अखिलेश यादव की पत्नी भी हैं।

सपा के सिंबल पर जयंत को राज्यसभा भेजना चाहते हैं अखिलेश

सपा के सिंबल पर जयंत को राज्यसभा भेजना चाहते हैं अखिलेश

सूत्रों का कहना है कि अखिलेश यादव ने जयंत चौधरी को राज्यसभा भेजने का वादा किया था। यादव उन्हें समाजवादी पार्टी के बैनर तले उच्च सदन में चाहते थे, लेकिन चौधरी ने समाजवादी पार्टी के समर्थन से अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोक दल के उम्मीदवार के रूप में जाने पर जोर दिया। सिब्बल का समर्थन करने के लिए समाजवादी पार्टी के कदम को पार्टी सांसद आजम खान के वकील के रूप में उनके प्रयासों के बाद बदले की भावना के रूप में देखा जा रहा है।

आजम की मदद करने का सिब्बल को मिला इनाम

आजम की मदद करने का सिब्बल को मिला इनाम

कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में आजम खान का प्रतिनिधित्व किया था। आजम खान को दो साल जेल में रहने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया। अगले महीने राज्यसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 11 सीटें शामिल होंगी। कुल मिलाकर 15 राज्यों की 57 सीटों के लिए 10 जून को मतदान होना है। भाजपा, जो हाल ही में राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य में भारी जीत के साथ सत्ता में लौटी है, कुल सीटों के लगभग 80 प्रतिशत पर कब्जा करके उच्च सदन में अपना दबदबा बनाए रखने के लिए तैयार है।

कांग्रेस और बसपा की झोली रहेगी खाली

कांग्रेस और बसपा की झोली रहेगी खाली

यूपी 31 सांसदों को ऊपरी सदन भेजता है, उनमें से 11 सदस्य 4 जुलाई को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। इसमें भाजपा के पांच, सपा के तीन, बसपा के दो और कांग्रेस का एक शामिल होगा। वर्तमान में, भाजपा के पास 22 की ताकत है, जबकि समाजवादी पार्टी के पास पांच हैं। बसपा और कांग्रेस के क्रमश: तीन और एक-एक हैं। अबकी बार बसपा और कांग्रेस के खाते में एक भी सीट नहीं आएगी क्योंकि विधानसभा चुनाव में इनका प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था। कांग्रेस को दो और बसपा को एक सीट ही मिल पायी थी।

यह भी पढ़ें-BJP ने शुरू किया राज्यसभा उम्मीदवारों पर मंथन, जानिए क्यों भेजा 20 नामों का पैनलयह भी पढ़ें-BJP ने शुरू किया राज्यसभा उम्मीदवारों पर मंथन, जानिए क्यों भेजा 20 नामों का पैनल

Comments
English summary
UP Rajya Sabha elections: Akhilesh will bet on which of Jayant Chaudhary and Dimple, know
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X