• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जाटों का दिल जीतने के लिए हर जतन कर रही पार्टी, जानिए अमित शाह ने क्यों चला ये बड़ा दांव

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 26 जनवरी: उत्तर प्रदेश में चुनावी सरगर्मी के बीच सभी राजनीतिक दल अपनी अपनी गोटियां सेट करने में जुटे हुए हैं। इसी बीच बीजेपी के चाणक्य अमित शाह जाटों का दिल जीतने के लिए हर वह मुमकिन कोशिश कर रहे हैं। खासतौर से इसमें भी दिलचस्प यह है कि अमित शाह ठीक उसी रणनीति पर काम करते दिखाई दे रहे हैं जैसा उन्होंने 2017 में किया था। पश्चिम यूपी में एक बार फिर जाट वोटों के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बुधवार को नई दिल्ली में 100 से अधिक समुदाय के नेताओं के साथ बैठक की। यह बैठक उस समय हुई जब पूरा देश गणतंत्र दिवस मनाने में व्यस्त था। सूत्रों ने बताया कि इनमें से ज्यादातर जाट नेता और प्रभावशाली लोग बीजेपी से जुड़े थे।

अमित शाह

वहीं सपा-रालोद गठबंधन का दावा है कि जाट, जो मुख्य रूप से किसान हैं, तीन कृषि कानूनों पर साल भर के विरोध के बाद भगवा पार्टी के साथ नहीं जाएंगे। यह भी मानता है कि 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के बाद जाटों और मुसलमानों के बीच तीखे विभाजन से भाजपा को फायदा हुआ, जिससे उसकी किटी में काफी इजाफा हुआ। हालांकि भाजपा में आम धारणा यह है कि जब से तीन कृषि कानून वापस लिए गए हैं, किसानों, खासकर जाटों में गुस्सा कम हो गया है। हालांकि, राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि भाजपा कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है इसलिए समुदाय तक पहुंचने का यह कदम उठाया गया है।

भाजपा सूत्रों ने कहा कि यूपी में मतदान शुरू होने से करीब दो हफ्ते पहले शाह की जाट प्रभावितों के साथ बैठक उन्हें अच्छी तरह से साधने के लिए के लिए की गई थी। शाह के जाट नेताओं के एक समूह से मुलाकात कर उन्हें मनाने के तरीकों और साधनों पर चर्चा करने की। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ''जाटों के समर्थन के बारे में जो भी दावा और प्रतिदावा हो, हम जाटों के बीच भ्रम को नजरअंदाज करने के मूड में नहीं हैं और इसलिए उनका दिल जीतने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।''

सूत्रों ने बताया कि भूपेंद्र चौधरी जैसे जाट नेता, जो योगी कैबिनेट में मंत्री भी हैं और केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान भी बैठक में मौजूद थे। बैठक के दौरान लिए गए फैसलों को जमीनी स्तर पर लागू किया जाएगा.'' दिलचस्प बात यह है कि यह पहली बार नहीं है जब शाह जाटों को भाजपा के पक्ष में करने की कोशिश कर रहे हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भी इसी तरह की स्थिति पैदा हुई थी और शाह, तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष को क्षेत्र के जाट नेताओं से मिलना था और उन्हें समुदाय के भाजपा के साथ रहने का महत्व समझाना था। तब तीन दर्जन से अधिक जाट नेताओं ने शाह से मुलाकात की थी।

2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी इसी तरह के प्रयास किए गए थे। हालांकि, जाट प्रभावितों के शाह से मिलने के बजाय, पश्चिम यूपी में जाट मतदाताओं तक पहुंचने की रणनीति तैयार की गई, जिससे बीजेपी को अकेले यूपी में 64 लोकसभा सीटें जीतने में मदद मिली। 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के बाद, जिसने जाटों को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा कर दिया था, पूर्व 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा के मजबूत पक्ष में आ गए थे और यहां तक ​​​​कि तत्कालीन रालोद प्रमुख स्वर्गीय अजीत सिंह भी थे, जिन्हें माना जाता था। क्षेत्र के सबसे प्रमुख जाट नेता बागपत से हार गए थे।

यह भी पढ़ें-पूर्व विधायक गुड्डू पंडित ने जताई हत्या की आशंका, बोले- भाजपा सांसद ने कराया मेरा पर्चा निरस्तयह भी पढ़ें-पूर्व विधायक गुड्डू पंडित ने जताई हत्या की आशंका, बोले- भाजपा सांसद ने कराया मेरा पर्चा निरस्त

Comments
English summary
Party making every effort to win the hearts of Jats
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X