• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

नौगांव सादात उपचुनाव: क्या इस बार भी चलेगा 'मत चूको चौहान' वाला गणित !

|

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा उपचुनाव की तारीख करीब आने के साथ ही राजनीतिक तापमान बढ़ रहा है। नौगांव सादात में करीब एक तिहाई मुस्लिम मतदाता हैं इसके बावजूद यहां चुनावी गणित उलझा हुआ है। इस बार यहां 'लाठी', 'बाकी' और 'सहानुभूति' का भी असर पड़ेगा। बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में सहानुभूति और किसानों को बाकी गन्ना मूल्य के भुगतान की उम्मीद है तो आरएलडी हाथरस में अपने नेता जयंत चौधरी पर लाठी बरसाने के मुद्दे को भुनाने की कोशिश में है। सपा को हमेशा की तरह मुस्लिम, यादव और अन्य पिछड़ों से उम्मीदें हैं। जबकि बसपा को भी मुसलमानों और अपने कैडर के वोट बैंक से आशा है।

Naugawan Sadat by election: Chauhan and non muslim votes polarization winning factor for BJP

2017 में हुआ गैर मुस्लिम मतों का ध्रुवीकरण

करीब 3.21 लाख मतदाताओं वाले नौगांव सादात विधान सभा क्षेत्र में करीब 1 लाख 10 हजार मुस्लिम मतदाता हैं। इनके मुकाबले चौहान मतदाताओं की संख्या एक चौथाई यानी करीब 32 हजार है। नौगांव सादात विधान सभा क्षेत्र का गठन 2008 में और पहला चुनाव 2012 में हुआ। तब माना जा रहा था कि इस क्षेत्र में मुसलमान मतदाताओं का वोट ही निर्णायक होगा। ऐसा 2012 के चुनाव में हुआ भी जब सपा के अशफाक अली खान ने जीत हासिल की। लेकिन यहां मुस्लिम मतदाताओं की संख्या एक तिहाई होने के बावजूद 2017 के विधान सभा चुनाव में "चार बांस चौबीस गज अंगुल अष्ट प्रमाण, ता ऊपर सुल्तान है, मत चूको चौहान" वाली सटीक गणना को सार्थक करते हुए पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान ने मैदान मार लिया था। दरअसल 2017 में गैर मुस्लिम मतों के ध्रुवीकरण के चलते बीजेपी के पक्ष में 41.43 फीसदी वोट पड़े और इस 'गणना' ने सारा गणित बिगाड़ दिया और चेतन चौहान ने सपा के नौगांव सादात गढ़ को जीत लिया।

Naugawan Sadat by election: Chauhan and non muslim votes polarization winning factor for BJP

ध्रुवीकरण का गणित क्या इस बार दिलाएगा जीत?

इस उपचुनाव में बीजेपी ने स्वर्गीय चेतन चौहान की पत्नी संगीता चौहान को जंग में उतारा है। देखना है कि इस बार भी "मत चूको चौहान" वाला गणित काम करता है या नहीं। वैसे 2012 के चुनाव में ही इसके संकेत मिल गए थे कि नौगांव सादात के मुस्लिम वोट सपा, बसपा और आरएलडी में बंटे हुए हैं। तब सपा को 27.47 प्रतिशत, बसपा को 25.66 और आरएलडी को 18.12 प्रतिशत वोट मिले थे। नौगांव सादात के 2020 के उपचुनाव में सपा और बसपा दोनों ने मुस्लिम प्रत्याशी उतारे हैं। सपा ने यहां मौलाना जावेद आब्दी और बसपा ने फुरकान अहमद को प्रत्याशी बनाया है। 2017 के विधानसभा चुनाव में जावेद आब्दी दूसरे नंबर पर रहे थे। सपा की नजर सरकार से नाखुश मतदाताओं पर भी है। कांग्रेस भी वापसी के लिए काफी जोर लगा रही है। लेकिन मुस्लिम मतदाताओं का रुझान उसी पार्टी की ओर रहता है जो बीजेपी को कड़ी टक्कर देने की स्थिति में होता है।

Naugawan Sadat by election: Chauhan and non muslim votes polarization winning factor for BJP

सीएम योगी ने रैली में सपा काल के दंगों की दिलाई याद

गुरूवार को नौगावां जनसभा में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ दहाड़ के गए हैं। सीएम योगी ने कहा कि अमरोहा उपचुनाव के लिए संगीता चौहान जी को भाजपा की ओर से उम्मीदवार बनाना, स्वर्गीय चेतन चौहान को सम्मान देने का हमारा तरीका है। हम चीनी मिलों के विस्तार के उनके सपने को पूरा करेंगे। उन्होंने मुजफ्फरनगर दंगे की याद दिलाई और कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार के काल में कोई भी दंगा नहीं हुआ है, जबकि पूर्व में सपा सरकार में हुए दंगों की वजह से न जाने कितने लोग, परिवार, घर पलायन करके चले गए। इस तरह सीएम योगी ने परोक्ष रूप से हिन्दू मतदाताओं को एकजुटता का संदेश दिया।

Naugawan Sadat by election: Chauhan and non muslim votes polarization winning factor for BJP

गन्ना किसानों का मुद्दा उठा रहा विपक्ष

दूसरी ओर विपक्ष भी गन्ना किसानों के बकाये को मुद्दा बना कर बीजेपी पर हमला कर रही है। हाथरस के बहाने बेटियों पर अत्याचार और खराब कानून व्यवस्था को लेकर मुखर है। आरएलडी अपने नेता जयंत चौधरी पर हाथरस में लाठी बरसाने के घटना को उठाकर जाट मतदाताओं को एकजुट करने की कोशिश में है। आरएलडी ने भी गन्ना किसानों की समस्या को मुद्दा बनाया है। कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. कमलेश सिंह के समर्थन में यूपी कांग्रेस प्रदेश सचिव सचिन चौधरी ने कहा कि किसान विरोधी भाजपा सरकार किसानों पर खुलेआम लाठियां भांजती है। पेट्रोल डीजल के दाम हद से ज्यादा बढ़ चुके हैं। किसानों के फसलों के वाजिब दाम नहीं मिल रहे हैं हैं।

एक तिहाई मुस्लिम मतदाता

3.21 लाख मतदाताओं वाली इस सीट पर सर्वाधिक लगभग 1.10 लाख मुस्लिम मतदाता हैं। जाट मतदाताओं की संख्या 30-32 हजार है। चौहान (राजपूत) वोट लगभग 28 हजार हैं। लगभग 15 हजार सैनी, 10-12 हजार यादव और इतने ही गुर्जर मतदाता हैं।

प्रमुख दलों के प्रत्याशी

भाजपा - संगीता चौहान

सपा - मौलाना जावेद आब्दी

बसपा - फुरकान अहमद

कोंग्रेस - डॉक्टर कमलेश सिंह

(छोटी बड़ी पार्टियों को मिलाकर 14 प्रत्याशियों के नामांकन हुए हैं)

नौगांव सादात विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदाता

वर्ष 2020 में 3 21 620 कुल मतदाता

तीन बर्षो में 15 372 नए वोटर बढे, ये पहली वार अपने मत का प्रयोग करेंगे

पुरुष वोटर - 1लाख 69 हजार 340 वोटर

महिला वोटर - 1लाख 52 हजार 280 वोटर

जातिगत आकड़े (लगभग)

मुस्लिम - 1 लाख 10 हजार

जाटव - 40 हजार

बाल्मीकि, धोबी- 13 हजार

जाट - 40 हजार

सैनी - 30 हजार

गुर्जर.-13 हजार

वैश्य.- 1 हजार

त्यागी - 3 हजार

ब्राह्मण.- 5 हजार

चौहान - 31 हाजर

खड्गबंशी -.3 हजार

प्रजापति - 9 हजार

पाल.- 8 हजार

यादव - 12 हजार

कश्यप - 6 हजार

अन्य .- 15 हजार

यूपी की नौगांव सादात विधान सीट पर 3 नवम्बर को मतदान होगा।

नौगांव सादात: चेतन चौहान के नाम पर सड़क का नामाकरण, डिप्टी सीएम ने कहा- उपचुनाव में जनता विपक्षियों को सबक सिखाएगी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Naugawan Sadat by election: Chauhan and non muslim votes polarization winning factor for BJP
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X