बेटी फांसी पर झूली, सदमे में मां की मौत, बहन ने छत से लगा दी छलांग

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

इलाहाबाद। यूपी के इलाहाबाद में एक बहुत ही दुखद और स्तब्ध कर देने वाला हादसा हुआ है। बड़ी बेटी ने कमरे के अंदर फांसी लगाकर जान दे दी और बेटी के सदमे में मां की हार्ट अटैक से मौत हो गई। मां और बहन की मौत से दुखी छोटी बहन भी खुद को संभाल न सकी और उसने जान देने के लिए छत से छलांग लगा दी जिससे वह भी घायलावस्था में जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रही है। घटना खुल्दाबाद थाना क्षेत्र के लूकरगंज इलाके की है। यहां रहने वाले कुंजनलाल के परिवार में यह हादसा हुआ है।

क्या है घटनाक्रम

क्या है घटनाक्रम

कुंदनलाल की तो कई साल पहले मौत हो चुकी थी, उनकी पत्नी श्यामकली अपने तीन बेटों और तीन बेटियों के साथ यहां रहती थी। तीन बेटियों में सबसे बड़ी रेनू ने कमरे के अंदर काफी देर से कैद थी, मां के कई बार आवाज देने के बाद भी जब वह बाहर नहीं आई तो मां रेनू को आवाज देती हुई उसके कमरे में गई। कमरे में बेटी का शव फांसी के फंदे पर झूल रहा था , जिसे देखते ही श्यामकली की हालत बिगड़ गई और अचानक आए हार्ट अटैक से श्यामकली ने दम तोड़ दिया। बेटी के सदमे में श्यामकली की मौत के बाद छोटी बेटी सुनीता बदहवास हो गई वह रोते बिलखते हुये पूरी तरह टूट गई। उसने भी आत्मघाती कदम उठाते हुए छत से छलांग लगा दी और गंभीर रूप से घायल हो गयी। फिलहाल सुनीता की हालत नाजुक है और वह एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती है।

पुलिस पहुंचने से पहले अंतिम संस्कार

पुलिस पहुंचने से पहले अंतिम संस्कार

इस हादसे की सूचना जैसे ही मोहल्ले में फैली हड़कंप मच गया। लोगों की भारी भीड़ घर के बाहर छुट गई। आनन फानन में परिजनों ने 100 को सबको अंतिम संस्कार करने का निर्णय लिया और पुलिस के पहुंचने से पहले ही दोनों श्मशान घाट लेकर चले गए जब घर पर पुलिस पहुंची और पूछताछ शुरू हुई तो परिजनों ने चुप्पी साध ली। कोई भी रीता( 22) की मौत की जानकारी देने से बचता रहा। रीता की मौत कैसे कोई यह अभी तक पुलिस पूछताछ में रहस्य बना हुआ है। पुलिस का कहना है कि पड़ोसी बता रहे हैं कि रीता ने फांसी लगा ली जिसे देखने के बाद सदमे में मां श्यामकली को दिल का दौरा पड़ा और उनकी जान चली गई। हालांकि पुलिस जब मौके पर पहुंची तो दोनों शवों को परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया था और कोई शिकायत या तहरीर ना मिलने के कारण आगे जांच की संभावना नहीं बनी।

जिंदगी और मौत से लड़ रही सुनीता

जिंदगी और मौत से लड़ रही सुनीता

श्यामकली का सबसे बड़ा बेटा रेलवे में है, जबकि 2 अन्य बेटे घर पर ही रहते हैं और दोनो बेरोजगार है। बेटियों में रेनू सबसे बड़ी थी और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रही थी। सोमवार को उसकी मौत होने पर पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी थी। मां और बहन के गम में छत से छलांग लगाने पर सुनीता को गंभीर चोटें आई हैं। फिलहाल उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है। फिलहाल मां बेटी की मौत और सुनीता का छत से छलांग लगाने की गुत्थी जांच न होने के कारण उलझी है और रीता की मौत का कारण साफ नहीं हो सका है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
mother died dued to heart attack after daughter suicide in allahabad

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.