• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जानिए कौन था कुख्यात डॉन बना मुकीम काला, छह साल में हरियाणा से उत्तराखंड तक खड़ा किया था साम्राज्य

|
Google Oneindia News

लखनऊ, मई 14: पश्चिमी यूपी में आतंक का पर्याय बन चुके कुख्यात डॉन मुकीम काला शुक्रवार की सुबह चित्रकूट जेल में मारा गया। गैंगस्टर अंशुल दीक्षित ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर मुकीम और मेराजुद्दीन को मार गिराया। जेल के अंदर फायरिंग की घटना के बाद पुलिस ने अंशुल दीक्षित को भी ढेर कर दिया। आइए जानते है पश्चिमी यूपी के डॉन मुकीम काला के बारे में....

 Know who was the infamous don Mukim Kala
    UP के Chitrakoot Jail में Firing, Mukhtar Ansari के करीबी समेत दो की हत्या | वनइंडिया हिंदी

    मुकीम काल चिनाई मिस्त्री से बना कुख्यात डॉन
    न्यूज 18 की खबर के मुताबिक, मुकीम काल छह साल पहले तक चिनाई मिस्त्री का काम करता था। मकान निर्माण करते-करते वो पश्चिमी यूपी में आतंक का पर्याय बन गया। मुकीम काला ने पहली वारदात हरियाणा के पानीपत में एक मकान में डकैती के रूप में अंजाम दी। इस मामले में मुकीम काला जेल गया था। मुकीम काला के बारे में जो सबसे अहम बात है वह यह है कि उसकी गैंग के 24 सदस्य है जोकि 2015 तक जेल में बंद थे वह अब उसके डर के साम्राज्य को आगे बढ़ा रहे हैं। काला के खिलाफ कई मामलों में केस दर्ज है, जिसमें चार पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले भी शामिल हैं।

    यूपी, हरियाणा से उत्तराखंड तक फैसला था मुकीम का साम्राज्य
    मुकीम काला का साम्राज्य वेस्ट यूपी के अलावा हरियाणा के पानीपत और उत्तराखंड के देहरादून में भी फैला है। मुकीम का गैंग पुलिस के रडार पर तब आया जब इन्होंने पुलिस पर भी हमले करने शुरू कर दिए। पुलिस के अनुसार, दिसबंर 2011 में पुलिस एनकाउंटर में मुस्तफा उर्फ कग्गा मारा गया, जिसके बाद मुस्तकीम काला ने कग्गा के गैंग की बागडोर संभाल कर वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया।

    हत्या, लूट, रंगदारी समेत कई वारदातों को दिया अंजाम
    पुलिस की मानें तो मुकीम के गैंग में डेढ़ दर्जन से अधिक बदमाश शामिल है। काला गैंग ने दो वर्षों में ही ताबड़तोड़ हत्या, लूट, रंगदारी समेत कई जघन्य वारदातों को अंजाम दे दिया। काला ने अपने साथियों के साथ एक के बाद एक कई वारदात किए, लेकिन कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। पुलिस ने उसे कई बार पकड़ने की कोशिश की, लेकिन वह पुलिस की आंखों में धूल झोंककर फरार हो गया।

    मुकीम काला को एटीएस ने 2015 में किया था अरेस्ट
    मुकीम काला गैंग ने 15 फरवरी 2015 को सहारनपुर के तनिष्क ज्वेलरी शोरूम में डकैती की वारदात की थी। उसी दरमियान तीतरो में दो सगे भाइयों की हत्या और सहारनपुर में सिपाही राहुल ढाका की हत्या कर दी थी। बाद में 20 अक्तूबर 2015 को एसटीएफ ने मुकीम काला और उसके शार्प शूटर साबिर जंधेड़ी को गिरफ्तार किया था।

    मुकीम काला पर दर्ज हैं 61 अपराधिक मुकदमें
    यूपी पुलिस के मुताबिक, मुकीम काला को गिरफ्तार करने के बाद सहारनपुर जेल में रखा गया था। लेकिन बाद में उसे महाराजगंज जिले की जेल में और बाद में चित्रकूट जेल भेजा गया। पुलिस के अनुसार, वर्तमान में मुकीम काला पर करीब अलग-अलग थानों में करीब 61 अपराधिक मुकदमें दर्ज हैं। मुकीम काला गिरोह का काम लूट, हत्या, डकैती और जबरन रंगदारी वसूलना है।

    English summary
    Know who was the infamous don Mukim Kala
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X