• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सुना रहा है प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की दास्तां

By Gaurav Dwivedi
|

बुलंदशहर। दुनिया पर हुकूमत करने वाले ब्रिटिश हुकमरानों के खिलाफ क्रांति में अग्रणीय भूमिका निभाने वाले बुलंदशहर जिले में मालागढ़ रियासत के ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सन् 1857 के प्रथम स्वत्रंता आंदोलन की दास्तां सुना रहा है। वक्त की मार और सरकारी उपेक्षा के कारण नष्ट हो चुके इस राष्ट्रीय धरोहर ने 1857 की प्रथम स्वत्रंता क्रांति के दौरान अहम भूमिका निभाई थी। बाद में अंग्रोजों नें तोपों से इस किले को ध्वस्त कर दिया था। इस महत्वपूर्ण राष्ट्रीय धरोहर को 150 वर्ष बीतने के बाद भी पुरात्तव विभाग ने अपने कब्जे में नहीं लिया है।

ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सुना रहा है प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की दास्तां

इस किले का ऐतिहासिक महत्व इस बात से भी बढ़ जाता है कि दिल्ली के अंतिम मुगल बादशाह और 1857 की क्रांति के प्रमुख नायक भी यहां दो दिन रुके थे। अधिकांश तय पीले और लाल मिट्टी से बने इस किले के जर्जर पर कोटो, टूटे-फुटे महलों एवं अन्य अवशेषों के देखने से यही कहावत चरितार्थ होती है कि खंडहर बता रहे हैं कि इमारत अजीम थी। जाहिर है कि इस पुराने किले की बुलंदियों का अब कोई चश्मदीद गवाह नहीं रहा। इस पर लिखी पुस्तकों का ही सहारा लिया जा सकता है।

जानें-माने विद्वान इकबाल मौहम्मद खां की पुस्तक, ए टेल ऑफ सिटी में इस किले की बुलंदियों और खुर्जा के पीले किले का जिक्र है। पुस्तक के मुताबिक किले के प्रमुख भवनों में दिवाने खास और दो शेन कक्षों में पच्चीकारी का सुंदर कार्य किया गया था। तोरण द्वार इतने बड़े थे कि उन से हाथी पताका सहित निकल सकते थे।

बुलंदशहर से सात किलो मीटर की दूरी पर रियासत मालागढ़ थी, जहां वलीदाद खां का शासन था। मुगल दरबार में नबाव वलीदाद खां को विशेष सम्मान और स्थान प्राप्त था। उन्हें तोपों की सलामी भी दी जाती थी और नगड़ा रखने की भी विशेष स्वीकृति प्राप्त थी। अभिलेख बताते हैं कि 1857 की क्रांति में हिस्सा लेने वाले अधिकांश नबाव व राजा अपने अधिकारों की रक्षा की लड़ाई लड़ रहे थे। परंतु इतिहास का एकमात्र क्रांतिकारी नबाव वलीदाद खां ऐसा सिपाही था, जिसने अपने सभी राजसी वैभव को दाव पर लगा कर मेहनतकश मजदूरों के हक के लिए अंग्रेजों से लोहा लिया।

ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सुना रहा है प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की दास्तां

1857 में मेरठ स्थित सैनिक छावनी में अंग्रेजी हकूमत के खिलाफ उठी बगावत की आग को तेज करने तथा हकूमत का नामोनिशान मिटाने के लिए विद्रोह की चिंगारी में यहाँ के नबाव वलीदाद खाँ ने घी का काम किया। मेरठ से आगे जब देशभक्त सिपाहियों का समुह चला तो गाजियाबाद पर दो दलों में बट गया। एक दल दिल्ली रवाना हो गया, जबकि दूसरा बुलंदशहर की ओर आकर कानपुर नाना साहब पेश्वा के पास चला गया। इसी दौरान बुलंदशहर क्षेत्र के सिकन्द्राबाद, दादरी में नबाव वलीदाद खाँ ने स्वत्रंता का अहवान किया। उनके एक इशारे पर गूर्जर समुदाय के लोग ब्रिटिश शासन के विरुध्द जंगे आजादी में कूद पड़े। गूर्जर जाति महेनतकश मजदूरों का समुदाय था तथा ब्रिटिश शासन द्वारा सताया गया सबसे बड़ा भुक्त भोगी था।

मालागढ़ के नबाव वलीदाद खाँ के नेतृत्व में गूर्जर जाति के लोगो नें आजादी के जनून में विदेशी शासन के प्रतीक डाक बंगलो, तारघरों एवं अन्य सरकारी इमारतों को चुन-चुनकर ध्वस्त कर उनमें आग लगा दी। बुलंदशहर की पुलिस छावनी को भी लूट लिया गया। क्रांतिकारियों नें पूरे बुलंदशहर क्षेत्र तथा अलीगढ़ की सीमा तक सभी संचार सेवाओं को भी ध्वस्त कर दिया। साथ पूरे इलाके को आजाद घोषित कर दिया था। बाद में ब्रिटिश शासन ने यहां भयंकर दमनचक्र का तांडव प्रस्तुत कर नवाब की सारी जागीरों को जब्त कर लिया।

ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सुना रहा है प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की दास्तां

10 अक्टूबर, 1857 को अग्रेंजो ने मालागढ़ रियासत पर हमला कर दिया। दोनों और से तोपों के गोले आग बरसाने लगे। अग्रेंजो तीन दिन तक लगातकर तोपों के गोले मालागढ़ के किले पर बरसाते रहे, लेकिन किले पर कोई असर नही पड़ा। अग्रेंज कमान्डर कर्नल ग्री थ्रेड ने दिल्ली से मदद की गुहार की। आनन फानन में दिल्ली से होपकिंस के नेतृत्व में मालागढ़ के लिए सैनिक टुकड़ी भेजी गई। इतिहासकरा बताते हैं कि युद्ध के दौरान नबाव वलीदाद खाँ के तोपची अग्रेंजों से मिल गया और तोप का मुँह रियासत की ओर मौड़ दिया। तोपची ने किले की दिवार पर गोला फेके दिया और देखते ही देखते किला ध्वस्त हो गया।

अग्रेंजों ने नबाव वलीदाद खाँ को पकड़ लिया और फांसी पर चढ़ा कर काला आम चौराहें पर तीन दिनों तक उनकी लाश को आम के पेड़ पर लटका दिया। अग्रेंजों शासको ने जिले के 45 गूर्जर जाति के लोगों को पकड़ कर जेल में डाल दिया तथा जिले के अन्य क्षेत्रों से भी हजारों की संख्या में लोगों को पकड़ कर जेल में डाल दिया। बाद में बुलंदशहर के काला आम चौराहें पर उन्हें बर्बता पूर्वक हत्या कर दी गई।

ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा सुना रहा है प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की दास्तां

दुर्भाग्य का विषय यह हैं कि आजादी के बाद इस महान स्वतंत्रा सैनानी नवाब के नाम से कोई स्मारक भी नही बनाया गया। आने वाले समय के लोगो को मालागढ़ रियासत के नवाब वलीदाद खाँ के जंगे आजादी के महत्व के विषय में कोई जानकारी ही नही हैं वो इस बात से बिल्कुल अनभिज्ञ हैं। तथा 1857 स्वत्रंता संग्राम की जब बात आती हैं तो बुलंदशहर के योग्दान को भुला दिया जाता हैं।

Read more: जिसकी वीरता के किस्से नहीं मिलते किताबों में, पढ़िए 13 साल की उम्र में कितना बहादूर था वो...

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Independence Story of the first freedom movement by a piece of destroyed Fort
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more