नवोदय विद्यालय से निकाले जाने के बाद 12वीं की छात्रा ने दी जान

Subscribe to Oneindia Hindi

कन्नौज। उत्तर प्रदेश में कन्नौज के जवाहर नवोदय विद्यालय की कक्षा 12 की छात्रा सिमरन ने विद्यालय से निकाले जाने पर मौत को गले लगा लिया। मृतक छात्रा के परिजनों का कहना है कि सिमरन बीमार हुई थी जिसके बाद स्कूल की प्रिंसिपल ने घर पर हमलोगों को सूचना दी।

नवोदय विद्यालय से निकाले जाने पर 12वीं की छात्रा ने दी जान

इसके बाद हम लोग बच्ची को घर ले आए और जब दोबारा स्कूल लेकर पहुंचे तो प्रिंसिपल ने स्कूल में भर्ती करने से इनकार कर दिया। इसी सदमे को लेकर छात्रा परेशान हो गयी और टॉप करने वाली छात्रा ने अपने भविष्य को देखते हुए कि अब उसका एडमिशन नहीं हो पाएगा जिससे उसकी पढ़ाई खराब हो जाएगी। इसी बात को लेकर उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वहीं प्रिंसिपल अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को दरकिनार कर रही है मौके पर एसडीएम इस मामले की जांच कर रहे है।

प्रिंसिपल छात्रा की मौत का कारण बीमारी बता रही है जबकि प्रशासन को भी जानकारी है कि छात्रा ने फांसी लगाई है जिसके बाद जिला प्रशासन इस मामले की जाँच में जुटा। सिमरन स्कूल की टॉप छात्राओं में एक थी जिसने कई मेडल और प्रमाण पत्र प्राप्त किए थे। वही जांच के दौरान विद्यालय के अन्य छात्र-छात्राओं ने एसडीएम से विद्यालय की पोल खोलते हुए बताया कि विद्यालय प्रशासन बच्चों पर काफी दबाव बनाए हुए है जिस कारण बच्चे आत्महत्या करने को मजबूर हो जाते है अगर सिमरन का फिर एडमिशन कर लिया होता तो वह आज ज़िंदा होती।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Girl student suicide after restricted from Navoday school.
Please Wait while comments are loading...