VIDEO: नोटबंदी के एक साल बाद उद्योगपतियों ने बताया क्या है फैसले का असर?

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कानपुर। नोटबंदी के एक साल पूरे होने के बाद भी देश के छोटे और मंझले उद्योग अभी भी इस फैसले से उबर नहीं पाए हैं। इंडियन इंडस्ट्रीस एसोसिएशन का कहना है कि बीजेपी सरकार का नोटबंदी करने का फैसला एकदम सही था और नोटबंदी करना एक ऐतिहासिक साहस भरा कदम था लेकिन उद्योग इसके लिए तैयार नहीं था और ना ही सरकार ने इससे लड़ने की तैयारी कर रखी थी। इंडियन इंडस्ट्रीस एसोसिएशन के कानपुर चैप्टर ऑफिस में सभी उद्योगों के मालिकों के अंदर नोटबंदी की पीड़ा आज भी है लेकिन सरकार द्वारा उठाया गए इस कदम से लाभ दूरगामी बताए।

hindi oneindai

आईआईए के कानपुर कार्यालय में आज भी नोटबंदी की बात सुनकर छोटे और मंझले उद्योगपति सिहर उठते हैं। उनका कहना है कि बाजार से ग्राहक बिलकुल गायब हैं, जिसका सीधा असर मैन्युफैक्चरिंग पर पड़ रहा है। ग्राहक के पास आज भी रुपया नहीं है जो बैंक में जमा है। ब्रेड, बिस्किट और साबुन इंडस्ट्री पर ज्यादा असर पड़ा है। इन तीनों उद्योगों पर दोहरी मार पड़ी पहले नोटबंदी की दूसरी सिक्कों की। नोटबंदी के दौरान आरबीआई ने करोड़ों के सिक्के बाजार में उतार दिए थे। ग्राहक अब रुपए ना देकर सिक्के देता है। अब तो ये हालात हैं कि व्यापारियों के पास सिक्कों के ढेर लगे हैं और बैंक सिक्के जमा नहीं कर रहा है।

आईआईए के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील वैश्य ने बताया कि छोटा और मंझला उद्योग नोटबंदी के एक साल बाद भी इससे उबर नहीं पा रहा है। कानपुर चैप्टर में करीब 6500 छोटे और मंझले उद्योग हैं, जिनकी हालत नोटबंदी के बाद से खराब है। कानपुर चैप्टर का सालाना टर्नओवर 47 हजार करोड़ तक पहुंच गया था जो 10 % सालाना की वृद्धि से बढ़ रहा था तो उसके हिसाब से इस बार 54 हजार करोड़ का आंकड़ा छूना था लेकिन नोटबंदी जैसा ऐतिहासिक फैसला आने के बाद 47 हजार करोड़ से घटकर टर्नओवर 38 हजार करोड़ पर आ गया। केंद्र सरकार का नोटबंदी का फैसला ऐतिहासिक कदम है। इसके दूरगामी परिणाम अच्छे होंगे लेकिन फैसला लेने के पहले जो तैयारी होती है वो पूरी तैयारी के साथ फैसला नहीं लिया गया। जिससे इंडस्ट्री को काफी नुक्सान झेलना पड़ा।

Read more: PICs: नोटबंदी के विरोध में सड़क पर उतरा विपक्ष, BJP कार्यकर्ताओं से भिड़ंत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Demonetization impact by industrialists and businessmen in Kanpur
Please Wait while comments are loading...