• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ASP राजेश साहनी की मौत के रहस्य की छानबीन करेगी सीबीआई, IG असीम अरूण को हटाने की तैयारी

By Rajeevkumar Singh
|

लखनऊ। सूबे के कई जिलों में तैनात रहे एएसपी राजेश साहनी ने बड़े-बड़े अपराधियों व आतंकियों को अपनी कार्यशैली से नतमस्तक कर दिया था लेकिन चंद मिनट में ऐसी कौन सी मजबूरी सामने आई कि वह उससे सामना नहीं कर सके और जिंदगी से हार मानकर मौत को गले लगा लिया। जानकार सूत्रों की मानें तो आतंकियों की गर्दन दबोचने और और ईमानदार छवि के माने जाने वाले राजेश साहनी किसी खूंखार आतंकी के आका का नाम उजागर करने व उसे गिरफ्तार करने के का मन बनाया था कि किसी का उनके ऊपर ऐसा दबाव बना कि वे झेल नहीं सके और हमेशा के लिए अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली?

एएसपी की मौत की सीबीआई से जांच की मांग

एएसपी की मौत की सीबीआई से जांच की मांग

पीपीएस एसोसिएशन ने एटीएस में तैनात एएसपी राजेश साहनी की मौत के मामले में सीबीआई से जांच किए जाने की मांग की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष एएसपी अजय मिश्र ने परिवार से मिलकर बात करने और उसी के आधार पर यह फैसला लेने के बाद आगे की कार्रवाई किए जाने की बात कही है। एडीजी एलओ के स्टाफ अफसर अवनीश मिश्र सहित कुछ पीपीएस अधिकारी अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर सीबीआई से जांच कराने की मांग कर रहे हैं। यही नहीं पीपीएस एसोसिएशन ने मृतक राजेश साहनी के परिवार को आर्थिक मदद दिए जाने की भी मांग की है। वहीं इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर गृह विभाग ने केन्द्र को सीबीआई जांच के लिए सिफारिश की है। राजेश साहनी आत्महत्या मामले में एटीएस आईजी असीम अरुण को सीबीआई जांच होने तक एटीएस से हटाने की तैयारी चल रही है, साथ ही साहनी की मौत से जुड़े संदिग्ध अफसर भी हटेंगे।

इंस्पेक्टर के फेसबुक पोस्ट से हड़कंप

इंस्पेक्टर के फेसबुक पोस्ट से हड़कंप

काम का दबाव और सीनियरों की लताड़ व राजनीतिक प्रेशर और अब तो जान पर भी खतरा। एटीएस के एएसपी राजेश साहनी की मौत के बाद एटीएस में तैनात कई पुलिसकर्मी नौकरी छोड़ने का मन बना लिया है। यह सच उस समय उजागर हुआ जब एटीएस में तैनात इंस्पेक्टर यतीन्द्र शर्मा ने पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह को पत्र भेजकर अपने इस्तीफे की मांग की। इंस्पेक्टर के इस फैसले से मानो पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।

डीजीपी को दिए गए पत्र में इंस्पेक्टर यतीन्द्र शर्मा ने साफ तौर पर अपनी पीड़ा बयां करते हुए कहा कि वह 2001 बैच का इंस्पेक्टर हूं और उन्हें कार्य के दौरान राष्ट्रपति का वीरता मेडल भी मिल चुका है। श्री शर्मा ने फेसबुक पोस्ट कर लिखा है कि एएसपी राजेश साहनी कमजोर दिल के नहीं थे उनके साथ इस कदर अभद्र व्यवहार किया गया कि वे जान देने पर मजबूर हो गए थे। इंस्पेक्टर यतीन्द्र ने एटीएस के आईजी असीम अरूण पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि वे प्रताड़ित करने के साथ मातहतों को भला-बुरा भी कहते रहते हैं और मोटी रकम न लाने पर भी तरह-तरह की यातनाएं देने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते। लिहाजा एएसपी राजेश साहनी की मौत का जिम्मेदार आईजी असीम अरूण पर ही ठहराया है।

डीजीपी मुख्यालय में यतीन्दर शर्मा तलब

डीजीपी मुख्यालय में यतीन्दर शर्मा तलब

एटीएस एएसपी राजेश साहनी की सुसाइड के बाद एटीएस में तैनात इन्स्पेक्टर यतीन्द्र शर्मा ने एटीएस के सीनियर अधिकारियों पर तमाम गंभीर आरोप लगाकर अपने इस्तीफे की बात कही थी और खुद वाट्सएप के जरिये अपना इस्तीफा भी भेजा था, जिसके बाद गुरूवार को यतीन्द्र शर्मा को डीजीपी मुख्यालय में तलब किया गया। काफी देर बाद जब यतीन्द्र शर्मा बाहर निकले तो उनके सुर बदल चुके थे। तमाम आरोप लगाकर इस्तीफे की बात करने वाले यतीन्द्र अब अनुशासित पुलिसकर्मी बता अनुशासन के तहत काम करने का राग अलापते दिखाई दिए। इतना ही नहीं जहां अपने इस्तीफे की बात को वो नकारते दिखाई दिए तो वहीं अब अपने उन्हीं उच्चाधिकारियों को बेहतर अफसर बताते रहे जिन्हें कल तक वो तमाम आरोपों से नवाज रहे थे।

ये भी पढ़ें: कई खूंखार आतंकियों को पकड़ने वाले तेजतर्रार ATS ऑफिसर का दर्दनाक अंत, सकते में पुलिस विभाग

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

lok-sabha-home

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
CBI will investigate the case of ASP Rajesh Sahni
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more