• search

मेरठ नगर निगम पर 13 साल बाद बसपा का कब्जा, सुनीता वर्मा ने भाजपा प्रत्याशी को हराया

By Rajeevkumar Singh
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में हस्तिनापुर से पूर्व विधायक योगेश वर्मा की पत्नी सुनीता वर्मा ने 15 हजार से अधिक वोटों से जीत दर्ज करते हुए मेरठ नगर निगम पर कब्जा कर लिया है। आधिकारिक घोषणा होने के बाद बसपाई जश्न मनाने में जुट गए हैं। सुनीता वर्मा ने निकाय चुनाव में दो लाख से ज्यादा मत प्राप्त किए। ऐसे में बसपा ने मेरठ नगर निगम की इस प्रतिष्ठित सीट पर भाजपा को शिकस्त दे डाली। सुनीता वर्मा के जीतते ही बसपा और समर्थकों में जबरदस्त जश्न का माहौल है। समर्थकों ने नारेबाजी करते हुए कार्यकर्ताओं को बधाई दी। 2004 के बाद यह दूसरी बार है जब बसपा ने मेरठ नगर निगम चुनाव में कब्जा जमाया है।

    बसपा और भाजपा में टक्कर

    बसपा और भाजपा में टक्कर

    सुबह सात बजे से कताई मिल परतापुर में शुरू हुई मतगणना बेहद दिलचस्प रही। शुरुआत से ही बसपा और भाजपा में टक्कर रही। नौ राउंड तक केवल बसपा आगे रही। दसवें राउंड में भाजपा केवल एक हजार मतों से आगे निकल सकी। इसके बाद फिर से बसपा आगे रही और आखिरी राउंड तक भाजपा को आगे नहीं आने दिया। शुरू से आखिर तक बसपा ने भाजपा से बढ़त का अंतर छह हजार से 24 हजार तक का रखा।

    मिथक कायम रहा

    मिथक कायम रहा

    इस जीत के साथ ही पूर्व विधायक योगेश वर्मा ने कांता कर्दम को दूसरी बार शिकस्त देते हुए मैदान से बाहर कर दिया। कांता कर्दम इससे पहले योगेश वर्मा से हस्तिनापुर विधानसभा चुनाव में हार चुकी हैं और इस बार योगेश वर्मा की पत्नी सुनीता वर्मा से निगम चुनाव में हार गईं। यही नहीं प्रदेश में सत्ता के उलट मेरठ में मेयर बनने का मिथक भी कायम रहा।

    गुटबाजी पड़ी भारी

    गुटबाजी पड़ी भारी

    बसपा की जीत के बाद मेरठ में भाजपा में आपसी गुटबाजी और टिकट बंटवारे में गड़बड़ी पुख्ता हो गई है। भाजपा में मेयर से पार्षद तक हुए टिकट बंटवारे से कार्यकर्ता खुश नहीं थे। भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी, भाजपा सांसद राजेंद्र अग्रवाल, विधायक सोमेंद्र तोमर एवं कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल के बावजूद मेरठ में मेयर सीट का हारना भाजपा के लिए बेहद शर्मनाक है।

    पहले राउंड से आखिर तक ऐसे दौड़ा हाथी

    पहले राउंड से आखिर तक ऐसे दौड़ा हाथी

    राउंड एक में बसपा को 27316 एवं भाजपा को 20806, दूसरे राउंड में बसपा को 21174 एवं भाजपा को 10215, राउंड तीन में बसपा को 27316 एवं भाजपा को 20860, राउंड चार में बसपा को 36880 एवं भाजपा को 28651, राउंड पांच में बसपा को 46457 एवं भाजपा को 35547, राउंड छह में बसपा को 54440 एवं भाजपा को 46263, राउंड सात में बसपा को 63263 एवं भाजपा को 50531, राउंड आठ में बसपा को 66274 एवं भाजपा को 60850, राउंड नौ में बसपा को 72886 एवं भाजपा को 66274, राउंड दस में भाजपा को 77305 एवं बसपा को 76311, राउंड 11 में बसपा को 85918 एवं भाजपा को 78566, राउंड 12 में बसपा को 101403 एवं भाजपा को 84387, राउंड 13 में बसपा को 112469 एवं भाजपा को 95793, राउंड 14 में बसपा को 124283 एवं भाजपा को 100708, राउंड 15 राउंड बसपा को 131382 एवं भाजपा को 113142, राउंड 16 में बसपा को 138924 एवं भाजपा को 120458, राउंड 17 में बसपा को 149430 एवं भाजपा को 127102, राउंड 18 में बसपा को 159398 एवं भाजपा को 130704 वोट मिले। 20 वें राउंड में बसपा को 201101 और भाजपा को 179144 वोट मिले।

    Read Also: अलीगढ़ में बसपा ने किया बड़ा उलटफेर, 22 साल से काबिज भाजपा को हराया

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    BSP candidate won meerut mayor seat in UP civic election.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more