India
  • search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

राष्ट्रपति चुनाव: यशवंत सिन्हा का समर्थन कर ममता दीदी की वफादारी निभाएंगे अखिलेश, जानिए कैसे

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 25 जून: देश में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर क्षेत्रिय दलों के बीच भी सुगबुगाहट तेज हो गई है। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का ऐलान किया है वहीं समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार को यहां पार्टी मुख्यालय में अपने विधायकों और सांसदों की एक बैठक में राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के समर्थन की औपचारिक घोषणा कर दी है। राजनीतिक विश्लेषकों की माने तो ममता बनर्जी ने यूपी विधानसभा चुनाव में अखिलेश का समर्थन किया था इसलिए अब अखिलेश के पास एक वफादारी निभाने का मौका था जिसे वह चूकना नहीं चाहेंगे।

ममता ने विधानसभा चुनाव में किया था अखिलेश का समर्थन

ममता ने विधानसभा चुनाव में किया था अखिलेश का समर्थन

हालांकि अखिलेश के इस फैसले को इसको इस नजरिए से भी देखा जा रहा है कि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने यूपी विधानसभा चुनाव में अखिलेश के समर्थन में जनसभाएं भी की थीं। इसमे पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी शामिल था। बैठक में यह भी घोषणा की गई कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव 27 जून को दिल्ली में राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामांकन फिल्माने के दौरान सिन्हा के साथ होंगे। अखिलेश यादव की अध्यक्षता में हुई बैठक में उपाध्यक्ष किरणमय नंदा और प्रमुख महासचिव राम गोपाल यादव ने भाग लिया, सांसदों और विधायकों ने सर्वसम्मति से संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार सिन्हा का समर्थन करने का फैसला किया।

राष्ट्रपति के लिए चुनाव लड़ने वाले टीएमसी के पहले नेता हैं यशवंत

राष्ट्रपति के लिए चुनाव लड़ने वाले टीएमसी के पहले नेता हैं यशवंत

हालांकि सपा प्रमुख ने घोषणा की थी कि पार्टी राष्ट्रपति चुनाव में तृणमूल कांग्रेस का साथ देगी। टीएमसी, जिसने दिल्ली में विपक्षी दलों की बैठक बुलाई थी और जिसमें कांग्रेस भी शामिल थी, ने सिन्हा को उम्मीदवार के रूप में शॉर्टलिस्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सिन्हा टीएमसी के सदस्य थे और उन्होंने विपक्षी उम्मीदवार के रूप में चुने जाने के बाद पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। राष्ट्रपति चुनाव के लिए लड़ने वाले पहले टीएमसी नेता हैं।

1984 में राजनीति में शामिल हुए थे सिन्हा

1984 में राजनीति में शामिल हुए थे सिन्हा

सिन्हा, एक पूर्व आईएएस हैं जो 1984 में राजनीति में शामिल हुए और जनता दल के सदस्य बने। 1990-91 में चंद्रशेखर सरकार में वित्त मंत्री थे। बाद में वह भाजपा में शामिल हो गए और वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री और बाद में विदेश मंत्री के रूप में नियुक्त हुए, जो 1989 और 2004 के बीच सत्ता में थी। बाद में वह पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने के लिए टीएमसी में शामिल हो गए। दरअसल भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना उम्मीदवार घोषित किया है, जबकि विपक्ष ने पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा को अपना उम्मीदवार घोषित किया है।

सपा के कुछ सांसद और विधायक बने थे सिन्हा के प्रस्तावक

सपा के कुछ सांसद और विधायक बने थे सिन्हा के प्रस्तावक

सपा के कुछ सांसदों और विधायकों ने सिन्हा के 'प्रथम प्रस्तावक' और 'समर्थक' के रूप में कागजात पर हस्ताक्षर भी किए। राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवार के नामांकन के लिए दस्तावेज में कम से कम 50 मतदाताओं (सांसद, विधायक) के 'पहले प्रस्तावक' और 50 अन्य समर्थकों के हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है। यशवंत सिन्हा की उम्मीदवारी के प्रस्तावकों और समर्थकों की सूची में सपा सांसदों और विधायकों के भी नाम थे।

सपा के पास राज्यसभा में पांच और लोकसभा में तीन सांसद

सपा के पास राज्यसभा में पांच और लोकसभा में तीन सांसद

सपा की बैठक में शामिल एक विधायक ने कहा, 'हम राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार का समर्थन करेंगे और बैठक में मौजूद सभी लोग इस पर सहमत हुए। हमने चर्चा की कि विपक्षी उम्मीदवार के लिए अधिकतम वोट कैसे सुनिश्चित किए जा सकते हैं। राज्य विधानसभा में रालोद और एसबीएसपी सहित सपा और सहयोगियों के पास कुल 125 विधायक हैं। पार्टी के राज्यसभा में पांच सांसद और लोकसभा में तीन सांसद हैं, जो गुरुवार को हुए उपचुनाव में रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीटों को बरकरार रखने पर बढ़कर पांच हो सकते हैं।

सिन्हा की उम्मीदवारी को पूरा समर्थन-सपा

सिन्हा की उम्मीदवारी को पूरा समर्थन-सपा

सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया, "हम सिन्हा जी का समर्थन करेंगे और उन्हें हमारा पूरा समर्थन होगा। हमने विधायकों से विपक्षी उम्मीदवार के नामांकन फॉर्म पर हस्ताक्षर करने को भी कहा। हमने सभी पार्टी सांसदों से बात की है और उन्हें मतदान के संबंध में निर्देश दिए गए हैं। हालांकि रामनाथ कोविंद के उत्तराधिकारी का चुनाव करने के लिए राष्ट्रपति चुनाव 18 जुलाई को होगा और परिणाम 21 जुलाई को घोषित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-राष्ट्रपति चुनाव में NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का साथ देगी BSP, मायावती ने बताई समर्थन की वजहयह भी पढ़ें-राष्ट्रपति चुनाव में NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का साथ देगी BSP, मायावती ने बताई समर्थन की वजह

Comments
English summary
Akhilesh will fulfill the loyalty of Mamta didi by supporting Yashwant Sinha, know how
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X