• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कुंडा में राजा भैया को बक्शने के मूड में नहीं हैं अखिलेश, जानिए क्यों उठाया ये बड़ा कदम

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 26 जनवरी: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर राजनीतिक दल जोड़-तोड़ में जुटे हैं। वहीं, जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कुंडा, प्रतापगढ़ के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप उर्फ ​​राजा भैया ने पहली बार बड़ा बयान दिया है। उन्होंने साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी 2022 का विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी। इस बीच सपा ने प्रतापगढ़ जिले के कुंडा से गुलशन यादव को प्रत्याशी बनाया है, जहां से राजा भैया 1991 से निर्दलीय विधायक हैं। सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साथ उनकी नजदीकी जगजाहिर है, लेकिन दोनों के अलग होने के बाद अखिलेश यादव अब पूरी तरह से राजा भैया को बक्शने के मूड में नहीं हैं।

राजा भैया

सपा प्रमुख ने हालांकि पूर्व सपा मंत्री स्वर्गीय पंडित सिंह के भतीजे सूरज सिंह को गोंडा शहर से समायोजित किया है और पूर्व सांसद और सपा के दिग्गज नेता रेवती रमन सिंह के बेटे उज्जवल रमन सिंह को प्रयागराज के करछना विधानसभा क्षेत्र में बरकरार रखा है। पार्टी महासचिव इंद्रजीत सरोज मंझनपुर (कौशांबी) से सपा उम्मीदवार हैं।

Lucknow में सुपारी व्यापारी Narendra Agrawal के यहां IT Raid, अब तक 3 करोड़ जब्त | वनइंडिया हिंदी

इस सूची में सुल्तानपुर जिले के लंभुआ के संतोष पांडेय का नाम भी शामिल है. संतोष ने अपने गृह जिले में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के साथ भगवान परशुराम मंदिर के निर्माण का नेतृत्व किया था, जिसे अखिलेश हाल ही में अपने ब्राह्मण आउटरीच को आगे बढ़ाने के लिए गए थे। इस सूची में प्रतापगढ़ के पट्टी से सपा के पूर्व विधायक राम सिंह पटेल का भी नाम है। राम सिंह पूर्व सांसद बाल कुमार के बेटे हैं जो मारे गए डकैत दादुवा के भाई हैं।

अब तक पार्टी 17 उम्मीदवारों की कर चुकी है घोंषणा
इसी के साथ राजा भैया ने कहा कि हम जनसत्ता दल के उम्मीदवार के दम पर चुनाव लड़ेंगे। वहीं राजा भैया ने बीजेपी और सपा समेत अन्य पार्टियों के साथ गठबंधन को लेकर महीनों से चल रही अटकलों को पूरी तरह खारिज कर दिया है। इतना ही नहीं राजा भैया के बयान के बाद सियासी गलियारों में सियासत तेज हो गई है। इसके अलावा राजा भैया ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिस विधानसभा क्षेत्र में अच्छे और मजबूत उम्मीदवार हैं, वहां जनसत्ता दल उम्मीदवार उतार रहा है। जनसत्ता दल ने अभी तक केवल 17 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा की है। हालांकि कई उम्मीदवारों को लेकर पार्टी में मंथन चल रहा है, जितने अच्छे उम्मीदवार मिल रहे हैं, पार्टी पदाधिकारियों और जनता से राय लेकर उम्मीदवार की घोषणा की जाएगी।

कितनी सीटों पर लड़ेंगे चुनाव, राजा भैया ने दिया ये जवाब
इसके अलावा राजा भैया ने कितनी सीटों पर चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि पार्टी अभी कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी यह कहना संभव नहीं है. वहीं, जिस दिन अंतिम उम्मीदवार की घोषणा की जाएगी, हम सीटों की पूरी संख्या बताएंगे। जनसत्ता दल और उम्मीदवार अपने दम पर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

दलबदल की राजनीति पर निशाना साधते हुए राजा भैया ने कहा था कि लोगों के आशीर्वाद से सौभाग्य से विधानसभा की सदस्यता मिलती है। किस्मत ज्यादा मजबूत हो तो सत्ताधारी दल में आ जाते हैं और किस्मत थोड़ी अच्छी हो तो मंत्री बन जाते हैं। साथ ही एक मंत्री के रूप में राज्य की जनता की ज्यादा से ज्यादा सेवा करनी चाहिए, लेकिन चुनाव के समय बड़ी संख्या में लोग दलबदल कर लेते हैं और पार्टी बदलने वाले एक ही लाइन बोलते हैं कि पार्टी भटक गई है। इसके सिद्धांतों से। मेरा दम घुट रहा है, अब यहां आकर मैं खुली हवा में सांस ले रहा हूं. साथ ही कहा कि जब चुनाव होते हैं तो दल-बदल का दौर होता है, जिसके विचार उस पार्टी में जा सकते हैं, जिसमें वह मिलती है।

ह भी पढ़ें-मायावती अपने गढ़ से ही करेंगी चुनावी रैली की शुरुवात, जानिए पूरी रणनीतिह भी पढ़ें-मायावती अपने गढ़ से ही करेंगी चुनावी रैली की शुरुवात, जानिए पूरी रणनीति

Comments
English summary
Akhilesh in no mood to spare Raja Bhaiya in Kunda
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X