• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

बागी विधायकों की टेस्टिंग कर अपने मंसूबों में कामयाब रही सपा, नितिन को मिला अखिलेश से बगावत का इनाम

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 18 अक्टूबर: उत्तर प्रदेश में सोमवार को सरकार ने सोमवार को एक दिन का विशेष सत्र बुलाया था जिसके तहत सरकार ने समाजवादी पार्टी के बागी विधायक नितिन अग्रवाल को विधानसभा का डिप्टी स्पीकर चुना गया था। बीजेपी ने नितिन को समर्थन देकर एक तरफ जहां चुनाव से पहले अपने जातीय समीकरण को साधते हुए वैश्य समाज में एक सकारात्मक मैसेज देने की कोशिश की वहीं दूसरी ओर सपा ने भी चुनावी मैदान में ओबीसी उम्मीदवार को उतारकर इसे रोचक बना दिया था। हालांकि सपा के उम्मीदवार को 60 वोट ही मिले लेकिन सपा इस बात से खुशी मना सकती है कि वो विपक्ष से 13 वोट निकालने में सफल रही। हालांकि यह कयास लगाए जा रहे हैं कि ये वोट बसपा के बागी विधायकों के हैं, जिन्होंने पिछले दिनों अखिलेश से मुलाकात की थी। बताया जा रहा है कि बीजेपी के भी कुछ विधायकों ने क्रास वोटिंग की है।

विधानसभा चुनाव

14 साल बाद चुना गया डिप्टी स्पीकर

दरसअल विधानसभा का कार्यकाल के मुश्किल से पांच महीने ही बचा है। उत्तर प्रदेश राज्य विधानसभा ने सोमवार को अपना उपाध्यक्ष चुना। 14 साल के अंतराल के बाद यूपी विधानसभा ने डिप्टी चुना है। वक्ता। सत्तारूढ़ भाजपा ने समाजवादी विद्रोही नितिन अग्रवाल को मैदान में उतारा था, जिन्हें सोमवार को हुए कुल 368 मतों में से 304 मत मिले थे। सपा ने विधायक नरेंद्र वर्मा को अपना उम्मीदवार बनाया था, जिन्हें 60 वोट मिले थे। विधानसभा में भाजपा और सहयोगी दलों के 325 विधायक हैं जबकि सपा के 47 में चार वोट अवैध घोषित किए गए।

कांग्रेस की अदिति ने बीजेपी में जाने के दिए संकेत
कांग्रेस विधायकों ने चुनाव का बहिष्कार किया था। डिप्टी के लिए हुए चुनाव में स्पीकर, एसपी अपनी कुल ताकत से 13 अतिरिक्त वोट हासिल करने में कामयाब रहे, जिसमें बहुजन समाज पार्टी के बागी विधायक भी शामिल हैं। रायबरेली से कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने अपनी पार्टी के बहिष्कार के आह्वान के बावजूद वोट डाला। बताया जा रहा है कि अदिति सिंह को आने वाले चुनाव में बीजेपी टिकट दे सकती है। अदिति सिंह भी नितिन की तरह कांग्रेस से बागी हो चुकी हैं।

नितिन अग्रवाल

सपा ने नरेंद्र वर्मा को मैदान में उतारा था
सपा ने अपने सीतापुर विधायक नरेंद्र वर्मा को मैदान में उतारा, जिन्होंने उसी दिन विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी, सपा के अन्य विधायकों और बसपा के कुछ बागी नेताओं की उपस्थिति में अपना नामांकन पत्र जमा किया। विधानसभा अध्यक्ष ने हाल ही में 2019 में एक विशेष विधानसभा सत्र में भाग लेने के खिलाफ अपनी पार्टी के व्हिप की अवहेलना करने के लिए अग्रवाल को सदन से अयोग्य घोषित करने के लिए सपा के एक आवेदन को खारिज कर दिया था।

यूपी विधानसभा

विपक्ष ने सदन शुरू होते ही किसानों की दुर्दशा और महंगाई पर किया विरोध
इससे पहले यूपी विधानसभा का विशेष सत्र हंगामे के साथ शुरू हुआ और विपक्षी दलों ने किसानों की दुर्दशा और महंगाई का विरोध किया। सपा विधायक ने विधानसभा गेट पर प्रदर्शन किया जबकि कांग्रेस ने किसानों के मुद्दों पर बहस की मांग की। कांग्रेस विधायक की नेता आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि विधानसभा कार्यकाल के साढ़े चार साल बाद अध्यक्ष का चुनाव कराकर बीजेपी ने डिप्टी के पद का मजाक बनाया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने 2001 में भी ऐसा ही किया था जब तत्कालीन विधानसभा के अंतिम चरण में अम्मार रिजवी को चुना गया था।

नितिन अग्रवाल को मिला पिता के वफादारी का इनाम
हालांकि, भाजपा ने कहा कि उसने विपक्ष से डिप्टी के लिए उम्मीदवार देने को कहा। स्पीकर लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। अंत में उन्होंने इस पद के लिए एक सपा विधायक को मैदान में उतारने का फैसला किया। दिलचस्प बात यह है कि नितिन अग्रवाल ने दो साल से अधिक समय पहले वफादारी बदल ली थी, जब उनके पिता और पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। सपा ने नितिन अग्रवाल को अयोग्य ठहराने के लिए विधानसभा अध्यक्ष एचएन दीक्षित के समक्ष एक याचिका भी दायर की थी। हालांकि इस याचिका को स्पीकर ने खारिज कर दिया था।

यह भी पढ़ें-कोयले की कमी से उपजे बिजली संकट का यूपी की राजनीति पर कितना पड़ेगा असर, क्या इससे बढ़ेगी बीजेपी की मुश्किलेंयह भी पढ़ें-कोयले की कमी से उपजे बिजली संकट का यूपी की राजनीति पर कितना पड़ेगा असर, क्या इससे बढ़ेगी बीजेपी की मुश्किलें

English summary
After 14 years, the deputy speaker went to the election in the UP assembly
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X