• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

यूपी में चोर पुजारी के पास चुपके से छोड़ गए चोरी हुईं 14 प्राचीन मूर्तियां, चिट्ठी में बताई ये वजह

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 16 मई: पिछली 9 तारीख को चित्रकूट के एक प्रसिद्ध मंदिर से करोड़ों रुपये की देवी-देवताओं की मूर्तियां चोरी हो गई थीं। मामला पुलिस तक पहुंचा और चोरों की तलाश चल रही थी। लेकिन, रविवार को तब पुलिस भी हैरान रह गई, जब मंदिर के महंत ने बताया कि गायब हुई अधिकांश मूर्तियां चोर लौटा गया है और इसकी वजह बताते हुए एक चिट्ठी भी छोड़ गया है। हालांकि, पुलिस ने फिर भी चार लोगों को पकड़ा है और बाकी मूर्तियों की तलाश का काम जारी है।

चोरी हुई मूर्तियां वापस लौटा गए चोर

चोरी हुई मूर्तियां वापस लौटा गए चोर

चित्रकूट के बालाजी मंदिर से चोर अष्टधातु की बनी बेहद प्राचीन 16 मूर्तियां चुरा ले गए थे। लेकिन, इनमें से 14 मूर्तियों को वह रविवार को मंदिर के मुख्य पुजारी के पास छोड़ गए। इन मूर्तियों के साथ उन्होंने एक चिट्ठी भी छोड़ी है, जिसमें उन्होंने अपने हृदय परिवर्तन होने की वजह बताई है। सदर कोतवाली कर्वी के एसएचओ राजीव कुमार सिंह ने इसके बारे में बताया है, '9 मई को कई करोड़ रुपये की 16 अस्टधातु की मूर्तियां तारौन्हा स्थित प्राचीन बालाजी मंदिर से चोरी हो गई थी। इस मामले में मंदिर के पुजारी महंत रामबालक ने अज्ञात चोरों क खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी।'

किन देवताओं की मूर्तियां हुई थीं चोरी

किन देवताओं की मूर्तियां हुई थीं चोरी

पुजारी के मुताबिक चोरी गई सभी मूर्तियां करीब 300 साल पुरानी थीं। इनमें से 9 तो पूरी तरह से अष्टधातु की थीं। 3 तांबे की और 4 पीतल की थीं। इन मूर्तियों में से आधी राधा-कृष्ण की मूर्तियां थीं और 6 भगवान शालिग्राम की थीं। पुजारी ने बताया था कि बाकी अलग-अलग देवताओं की मूर्तियां थीं। उनके मुताबिक मूर्तियों की कीमत बहुत ज्यादा है, क्योंकि सभी शुद्ध चांदी के आभूषणों से सजाई गई थीं। (दूसरी तस्वीर छोड़कर सभी सांकेतिक)

मूर्तियों के साथ एक चिट्ठी भी छोड़ गए चोर

मूर्तियों के साथ एक चिट्ठी भी छोड़ गए चोर

चोरी हुई 16 में से 14 मूर्तियों के वापस पुजारी के पास छोड़े जाने की पुलिस ने भी पुष्टि की है। एसएचओ ने कहा है, 'चोरी हुईं 16 में से 14 मूर्तियां रविवार को मानिकपुर जवाहरनगर में महंत रामबालक के घर के पास रहस्यमय तरीके से बोरी में पड़ी हुई मिलीं।' चोरों ने मूर्तियों के साथ ही पुजारी के लिए एक चिट्ठी भी छोड़ रखी थी, जिसमें उन्होंने ऐसा करने का कारण लिखा था।

'रात को हमें डरावने सपने आते हैं.....'

'रात को हमें डरावने सपने आते हैं.....'

चोरों ने अपने हृदय परिवर्तन के बारे में चिट्ठी में लिखा है कि उन्हें मूर्तियां चुराने की वजह से बुरे सपने आ रहे हैं और वह अपने डर की वजह से इसे वापस कर रहे हैं। चोरों ने चिट्ठी में लिखा है 'रात को हमें डरावने सपने आते हैं...... इसी के चलते हम मूर्तियां महंत के घर के बाहर रखकर जा रहे हैं...'। इस चिट्ठी में दावे के मुताबिक चोरों ने अपने नुकसान होने की भी आशंका जताई है।

इसे भी पढ़ें-Gyanvapi Masjid:नेहरू का नाम लेकर ओवैसी से क्यों बोले गिरिराज- 'देश संविधान से चलता है, तुष्टीकरण से नहीं'इसे भी पढ़ें-Gyanvapi Masjid:नेहरू का नाम लेकर ओवैसी से क्यों बोले गिरिराज- 'देश संविधान से चलता है, तुष्टीकरण से नहीं'

दो मूर्तियों की तलाश अभी भी जारी

दो मूर्तियों की तलाश अभी भी जारी

इसके बाद पुजारी उन 14 मूर्तियों को थाने में जमा कराने के लिए लेकर पहुंचे और पुलिस के मुताबिक उसके बाद आगे की कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को पकड़ा है और इस मामले में कानूनी कार्रवाई आगे बढ़ा रही है। पुलिस बाकी दो मूर्तियों की तलाश में भी जुटी है, जिसके बारे में खबर लिखे जाने तक कोई सूचना नहीं है। लेकिन, जिस अंदाज में भगवान के भय से चोरों ने मूर्तियां वापस की हैं, वह चर्चा का विषय बना हुआ है।

Comments
English summary
In Chitrakoot, UP, thieves left the stolen idols at the priest's house and wrote in the letter that scary dreams come.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X