India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

गर्मी ने बढ़ाई ऊर्जा की मांग, आपूर्ति में अरबों यूनिट की कमी

|
Google Oneindia News
Provided by Deutsche Welle

नई दिल्ली, 02 मई। सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि उत्तर भारत में बिजली की जरूरत 16 से 75 प्रतिशत के बीच बढ़ गई. इसकी वजह से बिजली की मांग 13.2 प्रतिशत बढ़ कर 135.4 अरब किलोवॉट घंटों पर पहुंच गई.

मौसम विभाग ने अधिकांश पश्चिमी मध्य, उत्तर पश्चिमी, उत्तर और उत्तर पूर्वी इलाकों में सामान्य से ज्यादा अधिकतम तापमान का पूर्वानुमान दिया है. पाकिस्तान में भी इस साल गर्मी का स्तर चरम पर है. वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एक अरब से भी ज्यादा लोगों पर गर्मी का दुष्प्रभाव पड़ सकता है.

(पढ़ें: छह साल में सबसे बुरा बिजली संकट झेल रहा है भारत)

बिजली की मांग में उछाल

वैज्ञानिकों ने गर्मी के मौसम के इतना जल्दी आ जाने को जलवायु परिवर्तन से जोड़ा है. भारत में बिजली के अभूतपूर्व इस्तेमाल से अप्रैल में बड़े पैमाने पर बिजली की कटौती भी हुई. जैसे जैसे कोयले की आपूर्ति कम होने लगी, बिजली कंपनियों को मांग के प्रबंधन के लिए कटौती करनी पड़ी.

अहमदाबाद में अपने हेलमेटों में पानी भर कर नहाते हुए निर्माण श्रमिक

बिजली की मांग के हिसाब से उसकी आपूर्ति में 2.41 अरब यूनिट की कमी पड़ गई, यानी 1.8 प्रतिशत की कमी, जो अक्टूबर 2015 के बाद से सबसे ज्यादा है. अप्रैल में दिल्ली में बिजली की मांग 42 प्रतिशत बढ़ी, पंजाब में 36 प्रतिशत और राजस्थान में 28 प्रतिशत.

(पढ़ें: जलवायु से जुड़े लक्ष्य हासिल करने में कोयला अब भी सबसे बड़ा रोड़ा)

पहाड़ी राज्यों में भी बुरा हाल

यहां तक कि अपने पहाड़ों के लिए लोकप्रिय पूर्वोत्तर के छोटे से राज्य सिक्किम में बढ़े हुए तापमान की वजह से बिजली के इस्तेमाल में 74.7 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो गई. हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड जैसे पहाड़ी राज्यों में बिजली की मांग 16 प्रतिशत से भी ज्यादा बढ़ गई.

कोलकाता में गर्मी से बचने के लिए हावड़ा पुल के पास गंगा नदी में गोता लगाते बच्चे

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक हरियाणा और उत्तर प्रदेश जैसे दूसरे उत्तरी राज्यों और पूर्व में झारखंड में बिजली की मांग 25 प्रतिशत से भी ज्यादा बढ़ गई. कम से कम सात राज्यों में छह सालों में कभी इतनी बिजली नहीं काटी गई थी जितनी अप्रैल में काटी गई. इनमें अधिकतर राज्य उत्तर के थे, लेकिन दक्षिण में आंध्र प्रदेश भी शामिल था.

(पढ़ें: भयंकर गर्मी है और एसी ऑन नहीं कर रहे हैं भारत के ऊबर ड्राइवर)

आने वाले दिनों में और भी बिजली कटौती की संभावना है क्योंकि कोयले की कमी और गहरा गई है. बिजली कंपनियों के पास गर्मी के पहले के मौसम के लिए कोयले का भंडार नौ सालों में सबसे कम स्तर पर था. अप्रैल में यह भंडार 13 प्रतिशत और गिर गया.

सीके/एए (रॉयटर्स)

Source: DW

Comments
English summary
unrelenting heat in india pushes april power demand to record high
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X