इतिहास 'साक्षी', 'सिंधु' इबादत और 'दीपा-ललिता' गुरूर है..

By: अंकुर शर्मा
Subscribe to Oneindia Hindi

बेंगलुरु। आज एक बार फिर से भारत की बेटियों ने साबित कर दिया है कि वो किसी भी मामले में, किसी से कम नहीं है। अगर उन्हें मौका मिले तो वो एक नया इतिहास फलक पर लिखने का दम रखती हैं। रियो ओलंपिक में, भारत से हजारों किमी दूर जब इन बेटियों ने जीत के परचम के साथ तिरंगे को फहराया तो शायद ही कोई भारतीय ऐसा होगा जिसकी आंखें खुशी से ना छलकी होंगी।

मिलिए इतिहास रचने वाली पीवी सिंधु के 'द्रोणाचार्य' से

Rio Olympics 2016: Sakshi Malik, PV Sindhu, Dipa Karmakar, Lalita Babar are real Stars of India

जीत का पहला स्वाद भले ही रेसलर साक्षी मलिक ने चखाया लेकिन इस जीत की उम्मीद की लौ जिमनास्ट दीपा करमाकर और धाविका ललिता बाबर ने भारतीयों के दिलों में जगायी थी। इन दोनों ने भले ही मेडल नहीं हासिल किये लेकिन दोनों ने अपने दम पर सफलता और कोशिशों की एक नई परिभाषा गढ़ी है। भारत की शटलर क्वीन पीवी सिंधु के बारे में जितना कहा जाये या लिखा जाये वो तो कम ही है।

Must Read: धाविका ललिता शिवाजी बाबर की बायोग्राफी

सिंधु ने जीत की एक नई इबादत अंकित करके ये साबित किया कि भारतीय बेटियों को मौका मिले तो वो हर चीज का रूख बदल सकती हैं। साक्षी, सिंधु, बाबर, और करमाकर देश की रीयल स्टार्स हैं, जिन पर पूरे देश को आज अभिमान है।

Rio Olympic: जिम्नास्टिक के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय बनीं दीपा करमाकर

इन सबकी सफलता भले ही आज लोगों को दिख रही है लेकिन इस सफलता के पीछे ,वो तपस्या है, जो इन्होंने और इनके मां-बाप ने की है। वरना रोहतक हरियाणा की 23 साल की बेटी साक्षी कभी भी रेसलर नहीं बनती। वो हरियाणा, जहां खाप पंचायत जैसी व्यवस्था है, जो कि लड़कियों के लिए कभी जींस पहनने और कभी मोबाइल ना रखने जैसे तुगलकी फरमान जारी करती है। जहां केवल 'दंगल' मर्दों की बपौती समझी जाती है लेकिन साक्षी ने हर दीवार को तोड़ा, विरोध सहा, समाज की सोच बदली और आज तिरंगे को वो सम्मान दिलाया जिसको शब्दों में बयां ही नहीं जा सकता है।

Must Read: शटलर क्वीन पीवी सिंधु की बायोग्राफी

यही बात ललिता बाबर और जिमनास्ट दीपा करमाकर पर भी सटीक बैठती है। दोनों ही बच्चियों ने ऐसे क्षेत्र में करियर बनाया जिसमें काफी मेहनत और प्रशिक्षण की जरूरत होती है लेकिन आर्थिक और उचित मार्गदर्शन के अभाव में भी इन बेटियों ने वो कर दिखाया जिसे करना आम इंसान के बस की बात ही नहीं। दोनों की सफलता का राज दोनों का आत्मविश्वास और आगे बढ़ने की जिद है।

रियो ओलंपिक 2016 : भारत को कांस्य पदक दिलाने वाली साक्षी मलिक की बायोग्राफी

आज देश ऊपर वाले से दुआएं मांग रहा है कि देश की गुड़िया पीवी सिंधु गोल्ड जीते लेकिन किसी को ये नहीं पता कि 12 साल की उम्र से रैकेट पकड़े सिंधु ने आज तक केवल सोते-जागते जीत का ही सपना देखा,वो भी खुली आंखों से, जिसके लिए उन्होंने घंटों नेट पर पसीना बहाया है। वो जीते या हारे..बाद की बात है. लेकिन इसमें कोई शक नहीं कि वो आज देश के लिए खरा सोना बन चुकी है।

देश की इन होनहार बेटियों को दिल से सलाम..वाकई तुम देश की आन-बान-शान हो..।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sakshi Malik, PV Sindhu, Dipa Karmar, Lalita Babar are real Stars of India. They are Pride of INDIA.
Please Wait while comments are loading...