ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक ठोंकने वाली हरमनप्रीत को क्यों आया 98 रन पर गुस्सा?

Written By: Amit
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। इंग्लैंड में चल रहे महिला विश्व कप में देश की लड़कियों ने कमाल करते हुए फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सेमीफाइनल मुकाबले में हरमनप्रीत के तूफान के आगे ऑस्ट्रेलियाई टीम कहीं नहीं टिक पायी। भारत के 282 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 245 रनों पर ही ढ़ेर हो गयी। इस जीत की हीरो रही पूर्व कप्तान हरमनप्रीत कौर पर पूरा देश फिदा हो गया जिसने अपनी पारी में ताबड़तोड़ 171 रनों की पारी खेल ऑस्ट्रेलियाई टीम की हवा निकाल दी।

हरमनप्रीत ने खतरनाक गुस्से से किया शतक पूरा

हरमनप्रीत ने खतरनाक गुस्से से किया शतक पूरा

हरमनप्रीत ने सेमीफाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की जमकर धुनाई कर रही थी। हरमनप्रीत कौर आत्मविश्वास से इतनी लबालब दिख रही थी कि उसने हर बॉल को तेजी से हिट किया। अपना शतक पूरा करने के बाद हरमनप्रीत का गुस्सा देखने लायक था जो उसने दीप्ति शर्मा पर निकाला। दरअसल मैच में 98 रन पर शॉट मारने के बाद हरमनप्रीत एक ही रन लेना चाहती थी लेकिन दीप्ति शर्मा के दबाव में उन्हें दूसरे रन के लिए भागना पड़ा। वो दूसरे रन के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी लेकिन दोनों के बीच मिसअंडरस्टैंडिंग कुछ ऐसी बनी कि हरमनप्रीत 99 रन पर रन आउट होते-होते बच गई। दूसरा रन पूरा करने के बाद हरमनप्रीत ने अपने दूसरे छोर पर खड़ी दीप्ति को बहुत बुरा भला कहा और जबरदस्त गुस्सा दिखाया। हालांकि उसने अपना शानदार शतक पूरा करने के बाद दीप्ति से बात भी की।

HARMANPREET KAUR को आया DEEPTI SHARMA पर गुस्सा । वनइंडिया हिंदी
हरमनप्रीत की ऐतिहासिक पारी

हरमनप्रीत की ऐतिहासिक पारी

विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय क्रिकेट (पुरुष-महिला) के एतिहास में खेली गई यह अबतक की सबसे लाजवाब पारियों में से एक है। किसी भी खिलाड़ी ने वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में 171 रन नहीं ठोके हैं। हरमनप्रीत कौर के अपनी आतिशी पारी में 20 दनादन चौके और सात गगनचुंबी छक्‍कों की मदद से आईसीसी महिला वर्ल्ड कप के नॉक आउट मुकाबले में सबसे ज्यादा व्यक्तिगत रन बनाने वाली पहली खिलाड़ी बन गई हैं

लॉर्ड्स में याद आएगा 1983 का वर्ल्ड कप

लॉर्ड्स में याद आएगा 1983 का वर्ल्ड कप

मिताली एंड टीम 23 फरवरी को जब लॉर्ड्स में फाइनल मुकाबले के लिए उतरेगी तब इस मैदान की एतिहासिक याद एक फिर ताजा हो जाएगी। इसी मैदान में कपिल देव की कप्तानी में 1983 में भारत ने अपना पहला वर्ल्ड कप जीता था। रविवार को भारत का सामना मेजबान इंग्लिश टीम से होगा। इससे पहले 2005 में भारतीय महिला टीम वर्ल्ड कप में के फाइनल में पहुंची थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Women World Cup: Harmanpreet Kaur gets angry after completing her century
Please Wait while comments are loading...