बैन के खिलाफ श्रीसंथ ने BCCI में विनोद राय को लिखी चिट्ठी, कहा- मेरे साथ हुआ है अन्याय

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
नई दिल्ली। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज रहे एस. श्रीसंत ने CAG के पूर्व प्रमुख और सुप्रीम कोर्ट की ओर से बीसीसीआई की प्रशासनिक समिति के अध्यक्ष बनाए गए विनोद राय को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में कहा कि बीते चार साल से वह न्याय के लिए लड़ रहे हैं, जबकि अगर सब ठीक होता तो वह अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ स्तर पर खेल रहे होते। सूत्रों के मुताबिक, श्रीसंत इस बात से काफी परेशान हैं कि बीसीसीआई के अब तक के नेतृत्व ने उनके साथ बुरा बर्ताव किया।
बैन के खिलाफ श्रीसंथ ने BCCI में विनोद राय को लिखी चिट्ठी, कहा- मेरे साथ हुआ है अन्याय

बीसीसीआई ने स्कॉटलैंड क्रिकेट लीग में खेलने के लिए भी श्रीसंत को एनओसी देने से इनकार कर दिया। साल 2015 में दिल्ली की एक अदालत मे श्रीसंत और दो अन्य खिलाड़ियों को मकोका (MCOCA) के तहत आईपीएल 2013 में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप से दोषमुक्त करार दिया था। श्रीसंत को उम्मीद है कि विनोद राय के आने से उनके करियर में कुछ अच्छा बदलाव हो सकता है। देखें VIDEO: अपने कुत्तों को कैसी-कैसी चीजें सीखा रहे हैं महेंद्र सिंह धोनी

जेटली की अगुवाई वाली समिति ने लगाया था प्रतिबंध

श्रीसंत का मानना है कि अगर इस बार का मौका उनके हाथ से निकला को बैन हटाने के खिलाफ उनके पास सिर्फ कोर्ट में अपील करने ही विकल्प होगा। बैन की वजह से श्रीसंत लीग क्रिकेट भी नहीं खेल सकते और न ही बीसीसीआई या राज्य क्रिकेट एसोसिएशन के किसी मैदान में प्रैक्टिस कर सकते। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाई वाली बीसीसीआई की अनुशासन समिति ने श्रीसंत पर आजीवन न खेल पाने का प्रतिबंध लगाया था।

अनुराग ठाकुर ने भी नहीं की मदद

बीजेपी के टिकट पर मई 2016 में चुनाव लड़ने वाले श्रीसंत को उम्मीद थी कि बीजेपी सांसद और बीसीसीआई अध्यक्ष रहे अनुराग ठाकुर उनकी मदद जरूर करेंगे लेकिन उन्हें वहां से भी निराशा हाथ लगी। श्रीसंत केरल से आने वाले सिर्फ दूसरे खिलाड़ी हैं जो देश के लिए खेलते थे। 34 साल के इस खिलाड़ी ने 27 टेस्ट मैचों में 87 विकेच लिए हैं 53 वनडे मैचों में 75 विकेट झटके हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sreesanth plays his next ball against life ban by writing to BCCI's vinod rai.
Please Wait while comments are loading...