जज्बे को सलाम: मूक-बधिर श्रद्धा वैष्णव को मिली स्टेट टीम में जगह

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। क्रिकेट प्रेमियों के लिए तो ये नाम नया नहीं है लेकिन जो लोग क्रिकेट में रूचि नहीं रखते हैं उनके लिए जरूर श्रद्धा वैष्णव एक अनसुना सा नाम है। तो चलिए बताते हैं श्रद्धा वैष्णव के बारे में आपको विस्तार से, जिन्हें जानने के बाद आपका सीन फक्र से ऊंचा और आंखें खुशी से छलछला उठेंगी।

बीजेपी नेता रूपा गांगुली उर्फ 'द्रौपदी' ने की थी तीन बार आत्महत्या की कोशिश

छत्तीसगढ़ राज्य के लिए क्रिकेट खेलने वाली 18 वर्षीय श्रद्धा ना तो सुन सकती हैं और ना ही बोल सकती हैं, बावजूद इसके उनकी गेंदबाजी के आगे बड़े-बड़े दिग्गज चारों खाने चित्त हो जाते हैं। श्रद्धा छत्तीसगढ़ की महिला क्रिकेट टीम के लिए चुनी गई हैं, वो देश की पहली महिला दिव्यांग खिलाड़ी हैं जो कि स्टेट क्रिकेट टीम के लिए चुनी गईं हैं।

बड़ा खुलासा: मैरीकॉम का भी हुआ था यौन उत्पीड़न, बेटों से बयां किया दर्द

श्रद्धा वैष्णव छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की रहने वाली हैं, जो मेहनत के दम पर छत्तीसगढ़ की अंडर-19 महिला क्रिकेट टीम के लिए चुनी गई हैंं। वो लेगस्पिनर हैं और 13 साल की उम्र से क्रिकेट खेल रही हैं। छत्तीसगढ़ राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष बलदेव सिंह कहते हैं कि श्रद्धा आज बहुतों के लिए उम्मीद की किरण हैं, उनकी वजह से आज क्रिकेट अकादमी में लड़कियां एडमिशन लेने आ रही हैं।

जानिए नोबेल प्राइज का इतिहास और हर एक बात...

श्रद्धा की सफलता के पीछे उनके परिवार और कोच मोहन सिंह ठाकुर का बहुत बड़ा हाथ हैं, जिन्होंने उनकी कमियों को नजर अंदाज करके, उनकी खूबियों को तराशा है और आज देश को एक बेहतरीन उम्दा क्रिकेटर दिया है। 

नेशनल रिकॉर्ड

श्रद्धा ने इस साल राष्ट्रीय स्कूल स्पर्धा में तमिलनाडु के खिलाफ तीन ओवरों में दो रन देकर पांच विकेट लिए थे। यह नेशनल रिकॉर्ड है और अब वो साइन लैंग्वेज के जरिए रिवर्स स्विंग को सीख रही हैं, देश की इस होनहार बेटी को हमारा भी दिल से सलाम।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
First Physically Challenged Woman Shradha Vaishnav To Play For Chhattisgarh women's cricket team.
Please Wait while comments are loading...