• search
शामली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

शामली:बालामती के शव को कूड़ा गाड़ी से श्मशान ले गई नगरपालिका, कोरोना से नहीं हुई मौत फिर भी किसी ने नहीं उठाया

|
Google Oneindia News

शामली, 10 मई। कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर ने उत्तर प्रदेश को बुरी तरह प्रभावित किया। पिछले 24 घंटे में यहां 21 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले, वहीं इस बीमारी से 278 लोगों की मौत हो गई। योगी सरकार बीमारी की रफ्तार को थामने की कोशिशों में लगी है। प्रदेश के शहर से लेकर गांवों तक फैल चुकी इस बीमारी से भय का ऐसा माहौल है कि ऐसी लाशों को भी कोई कांधा देने को तैयार नहीं जिनकी मौत कोरोना से नहीं हुई। शामली में लंबे समय से बीमार महिला की मौत हो गई। उसका भाई अर्थी को कांधा देने के लिए लोगों से गुहार लगाता रहा लेकिन कोई आगे नहीं आया। इसके बाद जो हुआ उसने इंसानियत को शर्मसार कर दिया। उस महिला के शव को नगरपालिका ने कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से श्मशान पहुंचाया।

Municipality took body of Balamati in garbage van

शामली में मानवता को शर्मसार करने वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आई पी सिंह ने इस मामले को ट्वीट कर लिखा कि एक 65 वर्षीय वृद्धा का शव कूड़ा उठाने वाली गाड़ी में रखा गया। क्या उत्तर प्रदेश में अब ससम्मान अंतिम संस्कार भी लोगों को नसीब नहीं होगा? शामली के जलालाबाद कस्बे में होम्योपैथ डॉक्टर प्रवास की अविवाहित बहन बालामती बंगाल में रहती थी। लंबे समय से बीमार बहन को डॉक्टर प्रवास शामली ले आए थे और उनका इलाज करा रहे थे। शनिवार की रात बालामती का देहांत हो गया।

Municipality took body of Balamati in garbage van

रविवार को डॉक्टर प्रवास बहन बालामती के शव का अंतिम संस्कार करने की तैयारी में लगे लेकिन अर्थी को कांधा देने वाला कोई नहीं मिला। डॉक्टर प्रवास लोगों से कहते रहे कि मेरी बहन कोरोना से नहीं मरी है, इसको कोई कांधा दे दो। लेकिन डॉक्टर की किसी ने नहीं सुनी। इसके बाद डॉक्टर ने नगरपालिका को कॉल किया। नगरपालिका ने बालामती के शव को कूड़ा गाड़ी पर लादकर श्मशान घाट पहुंचा दिया। उसी समय किसी ने इस घटना की तस्वीर खींची और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

कोविड से उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में लगे क्या 706 शिक्षकों की मौत हो गई?कोविड से उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में लगे क्या 706 शिक्षकों की मौत हो गई?

इस घटना पर शामली डीएम जसजीत कौर ने निजी चैनल से बातचीत में कहा है कि इसकी जांच की जिम्मेदारी एसडीएम और एसीएमओ को दी गई है। कहा कि डॉक्टर प्रवास ने एंबुलेंस या शव वाहन के लिए कोविड कंट्रोल रूम के नंबर पर फोन नहीं किया था। नगरपालिका ने शव को कूड़ा गाड़ी में उठाया। इसकी जांच की जा रही है जिसके बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

English summary
Municipality took body of Balamati in garbage van
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X