• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ब्लू व्हेल से ज्यादा खतरनाक है मोमो चैलेंज, खेलते-खेलते दसवीं की एक छात्रा ने दी जान

|

अजमेर। खतरनाक ब्लू व्हेल गेम के बाद अब इससे भी ज्यादा खतरनाक इसका नया वर्जन मोमो चैलेंज के रूप में सामने आया है, जिसने एक दसवीं की छात्रा की जान ले ली है। राजस्थान के अजमेर में दसवीं कक्षा की एक बच्ची ने इस खतरनाक गेम की चपेट मे आकर खुदकुशी कर ली। इस बच्ची का जन्मदिन आत्महत्या के तीन दिन बाद ही था, परिजनों ने दिल पर पत्थर रखकर ये दिन निकाला। मोमो सीधा दिमाग पर वार करता है और खेलने वाले को मंत्रमुग्ध कर देता है। जानकारी के अनुसार व्हाट्सएप के जरिए फैल रहे ब्लू व्हेल गेम के इस नए वर्जन से राजस्थान में यह पहली मौत है। परिजनों को घटना के बाद अब पता चला है कि आत्महत्या के पीछे क्या कारण रहा, लेकिन मामले की जांच को लेकर वे पुलिस के चक्कर लगा रहे हैं, ताकि बच्ची से जुड़े अन्य बच्चों का पता लगा सके।

memo challenge game is more dangerous than blue whale game, one girl committed suicide

घटना अजमेर जिले के ब्यावर की है, जिसमें 31 जुलाई को स्कूल से आने के बाद बच्ची ने खुद की कलाई पर तीन कट लगाए और फांसी लगा ली। उस समय घर पर सिर्फ बच्ची की दादी मौजूद थीं। बच्ची के पास एक सुसाइड नोट मिला था, जिस पर एक स्माइली बनी हुई थी और आई मिस यू ऑल लिखा हुआ था। बच्ची के पिता भूपेन्द्र शर्मा ने बताया घटना से तीन चार दिन पहले से बच्ची काफी उदास और चिड़चिड़ी हो गई थी, लेकिन हम कुछ समझ नहीं पाए। मौत के बाद भी हम इस मामले को यही मानते रहे कि किसी तनाव की वजह से बच्ची ने ऐसा कर लिया। चार-पांच दिन बाद किसी ने कहा कि बच्ची का मोबाइल चेक करो। जब हमने मोबाइल चैक किया तो उसमें इस गेम से जुड़ी बातें कोड वर्ड में लिखी हुई थीं। भूपेन्द्र ने बताया कि उनका भांजा इन चीजों को कुछ जानता है, तो उसने पूरी खोजबीन और पता चला कि यह ब्लू व्हेल गेम का नया वर्जन मोमो चैलेंज है, जिसमें स्टेप लगभग वैसे ही हैं। बाद में बच्ची के सुसाइड नोट पर बनी स्माइली का मतलब भी हमें समझ आ गया, क्योंकि यह मोमो चैलेंज गेम के सिमबल जैसी थीं।

बच्ची के परिजनों ने यह सारी बातें पुलिस को बताईं। बच्ची की फोन हिस्ट्री और उससे जुड़े नम्बर आदि भी दिए, लेकिन पुलिस ने अभी तक हस मामले में कुछ नहीं किया। पुलिस ने सामान्य जांच की और इसे अवसाद का मामला मान कर केस बंद दिया। भूपेन्द्र का कहना है कि हमने पुलिस को काफी जानकारी दी है, लेकिन अब आगे की जांच तो पुलिस को ही करनी है। हम तो सिर्फ इतना चाहते हैं कि जो नम्बर हमारी बच्ची के मोबाइल में है, वो किसके हैं यह पता चले और कोई अन्य बच्चे या लोग इससे जुड़े हों तो कम से कम उनकी जान बचाई जा सके। इस मामले में ब्यावर पुलिस के जांच अधिकारी ओम प्रकाश का सिर्फ इतना कहना है कि हम मामले की जांच कर रहे हैं। टैक्नोलॉजी से जुड़े लोग बताते है कि बच्चों के हाथ में एंड्रोयड फोन बेहद खतरनाक है। बच्चे खेल-खेल में खतरनाक गेम डाउनलोड कर लेते हैं और उन्हें खेलने लगते हैं। फिर बच्चों को पता ही नहीं चलता कि कब गेम ही उनसे खेलने लग गया। वह गेम की टास्क पूरी करने में जुट जाते हैं, चाहे इसमें उनकी जान ही क्यों न चली जाए।

ये भी पढे़ं- अटल जी को इस खास तरीके से सम्मान देगा कानपुर नगर निगम

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
memo challenge game is more dangerous than blue whale gameRajasthan girl committed suicide
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X