• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

प्रेम विवाह के बाद युवती के पिता ने दूसरी सगाई कराई, डॉक्टर ने दी जान, लिखा-क्यों है जाति व्यवस्था?

|

चूरू। राजस्थान के 30 वर्षीय डॉ. पवन सिरोहा ने दिल्ली स्थित फ्लैट पर खुदकुशी कर ली। डॉ. पवन सिरोहा ने फेसबुक आईडी पर जो सुसाइड नोट पोस्ट किया है, उससे कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं। पता चला है कि तीन बहनों के इकलौते भाई डॉ. पवन की जान प्रेम प्रसंग के चलते गई है। उसने अपने सुसाइड नोट में जिक्र किया है कि वह जिस लड़की से प्यार करता था। उससे आर्य समाज मंदिर में प्रेम विवाह कर लिया था। इसके बावजूद लड़की के पिता ने उसकी दूसरी जगह सगाई कर दी। पवन ने फेसबुक पर आर्य समाज मंदिर वाली शादी की तस्वीर भी पोस्ट की है।

बड़े भाई की 11 बार, छोटे भाई की 6 बार लगी सरकारी नौकरी, जानिए कौनसी खास ट्रिक का किया इस्तेमाल?

कौन था डॉ. पवन सिरोहा

कौन था डॉ. पवन सिरोहा

बता दें कि डॉ. पवन सिरोहा मूलरूप से राजस्थान के चूरू जिले के गांव नयावास का रहने वाला था। पवन के पिता मनोहर सिरोहा चेजा मिस्त्री का काम करते हैं। घर में मां है। पवन तीन बहनों में सबसे छोटा और इकलौता भाई था। वह नौ महीने पहले घर आया था। युवती से प्रेम विवाह को लेकर उसने परिवार वालों को कभी कुछ नहीं बताया। दो ढाई महीने पहले दोनों ने शादी कर ली घर पर किसी को पता नहीं था। रविवार को दिल्ली पुलिस की ओर से उसके जीजा जयसिंह के पास फोन आया और दिल्ली बुलाया गया। वह ससुर मनोहर के साथ दिल्ली पहुंचा, जहां शादी की बात सामने आई। बेटे का शव देख पिता बेसुध हो गया।

ऐसे शुरू हुई थी पवन की लव स्टोरी

ऐसे शुरू हुई थी पवन की लव स्टोरी

जानकारी के अनुसार जिस युवती से पवन ने लव मैरिज की वह झुंझुनूं जिले की रहने वाली है। जयपुर में एमबीबीएस की तैयारी के दौरान उनकी मुलाकात हुई थी। पहले दोस्ती हुई, जो बाद में प्यार में बदल गई। पवन तो एमबीबीएस के लिए नागपुर चला। युवती ने नर्सिंग की और दिल्ली के अस्पताल में नर्सिंग ऑफिसर बन गई। कुछ महीने पहले ही दोनों ने आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली, लेकिन युवती का पिता इससे नाराज था।

 युवती को ले आए थे पिता

युवती को ले आए थे पिता

मीडिया रिपोर्ट्स में पवन के दोस्तों के हवाले से बताया गया है कि 18 अक्टूबर को युवती के पिता उसे अपने साथ ले आए थे। उसके बाद से पवन तनाव में था। 23 अक्टूबर की रात कुछ दोस्त पवन से मिले थे। दोस्तों ने काफी कुछ समझाया, लेकिन पवन गुमसुम रहा। 24 अक्टूबर को वह अपने कमरे पर पहुंचा और सवेरे 11.23 बजे उसने फेसबुक पर एक सुसाइड नोट पोस्ट किया। उसके बाद खुदकुशी कर ली।

 डॉ. पवन सिरोहा का सुसाइड नोट

डॉ. पवन सिरोहा का सुसाइड नोट

पवन ने फेसबुक पर अपने सुसाइड नोट में युवती को संबाेधित करते हुए लिखा कि मैं आपको बहुत बार निवेदन कर चुका, ना जाने क्यों ये सब हुआ, जब अपन ने एक दूसरे की जिंदगी को अपना मान ही लिया था तो अब क्या ऐसा हो गया कि आप अपनी जिंदगी को ही भूल गई? मुझे लगता है कि आपके साथ कुछ ऐसा ही खेल हुआ है, आप समझ ही नहीं पाए और आपको मुझसे दूर कर दिया गया।

क्यों है ये जाति व्यवस्था ? क्यों कोर्ट मैरिज की हमने, अगर दूर ही होना था तो? मुझे खुशी है कि मैंने हजारों बच्चों की जिंदगी बनाई, लेकिन आत्महत्या करके मैं उनको निराश कर रहा हूं, लेकिन क्या करूं, आखिर एक दिन तो जाना ही था। मेरे मां पापाजी ने मुझे बहुत पढ़ाया। इसका बुरा असर मेरे मां पापाजी की जिंदगी पर भी पड़ेगा। विनोद, अजय, आनंद भाऊ, निखिल भुते सर आप सभी को मेरा धन्यवाद, आपने संघर्ष के लिए बहुत कुछ किया। मैंने बहुत हिम्मत की जिंदा रहने की, लेकिन मुझे घुटन हो रही है।

अब मैं चाहकर भी काम नहीं कर पा रहा। मेरा सब कुछ खत्म कर दिया एक जातिवादी सोच ने। आपके पापाजी जाति को लेकर मेरा बहिष्कार ना करते तो आज हम एक जगह होते। उन्होंने मुझे ना केवल जाति की वजह से अलग किया, बल्कि आपके लिए एक ऐसा लड़का भी ढूंढ़ दिया जो अपने स्वार्थ के लिए आपके साथ शादी करना चाहता है। आज जातिमुक्त समाज की जरूरत है।

लव मैरिज के बाद महिला ने 2 पति और 2 बच्चों को छोड़कर लॉकडाउन में प्रेमी के साथ रचाई तीसरी शादी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Churu's doctor Pawan Siroha took extreme step in Delhi after love marriage
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X