• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Rajasthan : जिस हत्याकांड की SHO विष्णुदत्त बिश्नोई कर रहे थे जांच, उसमें अब हुआ ये बड़ा खुलासा

|

चूरू। राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ में अवैध शराब बिक्री को लेकर 22 मई को हुए राजेन्द्र गढ़वाल हत्याकाण्ड का एसओजी ने खुलासा कर दिया है। एसओजी की टीम ने हरियाणा के भिवानी जिले के पहाड़ी गांव से मुख्य आरोपी 25 हजार के ईनामी अनिल शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है।

राजेन्द्र गढ़वाल हत्याकांड राजगढ़

राजेन्द्र गढ़वाल हत्याकांड राजगढ़

22 मई को राजगढ़ में शराब बेचने को लेकर हुए झगड़े में राजेंद्र गढ़वाल की बोलेरो सवार व्यक्तियों द्वारा अंधाधुंध गोलियां चलाकर हत्या कर दी गई थी। फायरिंग में राजेन्द्र गढ़वाल के बेटे सुनील तथा पड़ोसी विनोद वाल्मीकि घायल हो गए थे। इस पर पुलिस थाना राजगढ़ में कपिल शर्मा और अनिल शर्मा सगे भाइयों के साथ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था।

 विष्णदत्त बिश्नोई ने 23 मई को की खुदकुशी

विष्णदत्त बिश्नोई ने 23 मई को की खुदकुशी

राजगढ़ सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई इस मामले की जांच कर रहे थे। लेकिन अगले ही दिन 23 मई को सीआई विष्णुदत्त का शव उनके सरकारी आवास में फांसी के फंदे से लटका मिला था। 27 मई को इस बहुचर्चित मामले की जांच एसओजी टीम को सौंपी गई थी।

 हत्याकांड की जांच एसओजी को

हत्याकांड की जांच एसओजी को

अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस और एसओजी के अनिल पालीवाल ने बताया कि मामले कि गंभीरता को देखते हुए इस प्रकरण का अनुसंधान एसओजी के सुपुर्द किया गया था। जिस पर अनुसंधान के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया।

 राजगढ़ का रहने वाला है आरोपी

राजगढ़ का रहने वाला है आरोपी

अनुसंधान के दौरान एसओजी और राजगढ़ थाना पुलिस की संयुक्त टीम के द्वारा कार्रवाई करते हुए मुख्य आरोपी अनिल कुमार उम्र 25 साल निवासी वार्ड 15 राजगढ़ चूरू को हरियाणा के भिवानी जिले के गांव पहाड़ी से पकड़ा है।

 बस ऑपरेटर बेचता था शराब

बस ऑपरेटर बेचता था शराब

राजेन्द्र गढ़वाल राजगढ़ में मुख्य रूप से बस ऑपरेटर का काम करता था। साथ ही अवैध रूप से शराब भी बेचता था। आरोपी कपिल और अनिल भी राजगढ़ में अंग्रेजी शराब के ठेके में पार्टनर हैं। अवैध रूप से मोहल्ले में भी शराब बेचते हैं। इसको लेकर दोनों ही पक्षों में तनातनी चल रही थी।

 सुबह मारपीट, शाम को हत्या

सुबह मारपीट, शाम को हत्या

घटना वाले दिन सुबह राजेंद्र गढ़वाल के साथियों ने कपिल और अनिल दोनों भाइयों के साथ मारपीट की थी। जिसका बदला लेने के लिए ​कपिल और अनिल ने राजेन्द्र गढ़वाल, उसके बेटे सुनील और सहयोगी विनोद वाल्मीकि पर फायरिंग की थी। जिसमें गोली लगने से राजेन्द्र गढ़वाल की मौत हो गई थी।

शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा की पत्नी का भावुक वीडियो, बोलीं-'ये बिंदी, चूड़ियां, सिंदूर सब आशु की पहचान'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Churu Rajgarh SHO vishnudutt bishnoi was investigating of Rajendra Garhwal Murder Case
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X