• search
पंजाब न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पंजाब: किसान आंदोलन में अन्ना हजारे की सक्रियता पर किसान नेता ने उठाए सवाल, कही ये बात

|
Google Oneindia News

चंडीगढ़, सितंबर 15, 2021। किसान आंदोलन को लेकर अब सियासत भी शुरू हो चुकी है। कई किसान संगठन अन्ना हज़ारे से किसान आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए मुलाक़ात कर रहे हैं तो कई किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसान आंदोलन को अमलीजामा पहनाने की बात कर रहे हैं। हाल ही में हरियाणा संयुक्त किसान मोर्चा के किसान नेता नई सगठनों के साथ अन्ना हज़ारे सें मिलने पहुंचे थे। इसी बाबत वन इंडिया हिंदी ने किसान आंदोलन से पहले दिन से जुड़े किसान नेता निर्मल सिद्धू से बात की उन्होंने किसान आंदोलन के मुद्द पर बेबाकी से जवाब दिया।

kisan andolan anna hazare

अन्ना हजारे की सक्रियता पर सवाल
किसान नेता निर्मल सिद्धू ने कहा कि किसान आंदोलन से पहले दिन से जुड़ा हुआ हूं और किसानों को हो रही परेशानियों से बहुत ही अच्छी तरह से वाक़िफ हूं। किसानों को अन्ना हज़ारे के नेतृत्व की ज़रूरत नहीं है। वह तो भारतीय जनता पार्टी के एजेंट के तौर पर काम करते हैं। पिछली बार भी भारतीय जनता पार्टी की तरफ़ से उन्होंने कांग्रेस को कमज़ोर करने के लिए आंदोलन किया था ना कि जनता की भलाई के लिए किया था। अन्ना हज़ारे के नेतृत्व में किसान कभी भी आंदोलन नहीं करेंगे क्योंकि वह बीजेपी के एजेंट हैं। वह सिर्फ़ और सिर्फ़ भारतीय जनता पार्टी को फ़ायदा पहुंचाने का काम कर किसानों के आंदोलन को कमज़ोर बनाने की योजना तैयार कर रहे हैं।

पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले BJP को बड़ा झटका, BSP में शामिल हुए कई भाजपा नेता और कार्यकर्ता पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले BJP को बड़ा झटका, BSP में शामिल हुए कई भाजपा नेता और कार्यकर्ता

किसानों की मांगें पूरी नहीं हो पाईं- अन्ना हजारे
विकल पचार ने कहा कि सरकार की कार्यशैली को लेकर बैठक में सरकार पर सभी किसान नेताओं ने गंभीर सवाल उठाए और अन्ना हजारे से विस्तार से चर्चा हुई। किसान आंदोलन को लेकर विचार विमर्श किया गया। किसान आंदोलन को लेकर अन्ना हजारे ने कहा कि हमने साल 2018 के अंदर देश के काफ़ी किसान संगठनों को आमंत्रित करके 17 मांगों को लेकर आंदोलन शुरू किया था। इसमे मुख्य मांग केंद्र की कृषि मूल्य आयोग हटा दिया जाए जिससे किसान को सही मूल्य मिल पाएगा। अफ़सोस की बात है किसान संगठनों की तरफ़ से हमारी उम्मीद से कम सहयोग मिला, जिसकी वजह सरकार के पास भेजी गई किसानों की मांगें आज तक पूरी नहीं हो पाई।

चुनावी साल में पंजाब में नया ज़िला और गांव का नाम बदलने की मांग ने पकड़ा तूल, जानिए क्या है मुद्दा ?चुनावी साल में पंजाब में नया ज़िला और गांव का नाम बदलने की मांग ने पकड़ा तूल, जानिए क्या है मुद्दा ?

24 सितंबर को होगी बैठक
अन्ना हजारे ने कहा आंदोलन करने को लेकर दिल्ली में 24 सितंबर को बैठक करके जल्द कार्यकारिणी गठित किया जाएगा। बैठक में मौजूद देश के किसान नेताओं ने अपनी सहमति जताई। अन्ना हजारे ने कहा कि

अगर हमारे द्वारा उठाई गई 17 मांगे पूरी हो जाती तो आज देश के किसानों को किसी भी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता

मौजूदा किसान आंदोलन में किसान की दशा पर दुख ज़ाहिर करते हुए कहा कि मैं आज बहुत दुखी हूं क्योंकि मैंने आज तक जितने भी आंदोलन किए वो हमेशा सफल हुए हैं। अन्ना हजारे ने सरकार पर भ्रष्टाचार को लेकर काफी गंभीर और बड़ा सवाल खड़ा किया। उन्होंने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जनतंत्र देश की सबसे बड़ी ताक़त है। जनतंत्र के सहयोग से ही आज लोकतंत्र को बचाना मुमकिन है, अगर जनतंत्र मज़बूती के साथ एकजुट होकर खड़ा हो जाता है। जनतंत्र के सामने राजनीतिक पार्टियों को नतमस्तक होने में देर नहीं लगेगी। अन्ना हजारे ने कहा कि पूरे देश के अंदर ऐसा कोई भी गांव नहीं है जहां किसान नहीं हो अगर देश का किसान एकजुट होकर खड़ा हो गया तो मोदी सरकार को घुटनों के बल आने में वक़्त नहीं लगेगा। आज राजनीतिक पार्टियां के नेता जीवन के असली मूल मंत्र को भूल कर जनतंत्र का दुरुपयोग कर पैसे से सत्ता और सत्ता से पैसे कमाने में मशगूल हो गए हैं। इन सबकी वजह से आम जनता और देश के किसान की अनदेखी की जा रही है।

ये भी पढ़ें: 'किसान पंजाब नहीं दिल्ली में प्रदर्शन करें' पर अमरिंदर सिंह की सफाई, बोले- बात को गलत रंग दिया गया

English summary
Punjab: Farmer leader raised questions on Anna Hazare's activism in farmers' movement, said this
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X